Site hosted by Angelfire.com: Build your free website today!

पुराण विषय अनुक्रमणिका

PURAANIC SUBJECT INDEX

(Anapatya to aahlaada only)

by

Radha Gupta, Suman Agarwal, Vipin Kumar

Home Page

Anapatya - Antahpraak (Anamitra, Anaranya, Anala, Anasuuyaa, Anirudhdha, Anil, Anu, Anumati, Anuvinda, Anuhraada etc.)

Anta - Aparnaa ((Antariksha, Antardhaana, Antarvedi, Andhaka, Andhakaara, Anna, Annapoornaa, Anvaahaaryapachana, Aparaajitaa, Aparnaa  etc.)

Apashakuna - Abhaya  (Apashakuna, Apaana, apaamaarga, Apuupa, Apsaraa, Abhaya etc.)

Abhayaa - Amaavaasyaa (Abhayaa, Abhichaara, Abhijit, Abhimanyu, Abhimaana, Abhisheka, Amara, Amarakantaka, Amaavasu, Amaavaasyaa etc.)

Amita - Ambu (Amitaabha, Amitrajit, Amrita, Amritaa, Ambara, Ambareesha,  Ambashtha, Ambaa, Ambaalikaa, Ambikaa, Ambu etc.)

Ambha - Arishta ( Word like Ayana, Ayas/stone, Ayodhaya, Ayomukhi, Arajaa, Arani, Aranya/wild/jungle, Arishta etc.)

Arishta - Arghya  (Arishtanemi, Arishtaa, Aruna, Arunaachala, Arundhati, Arka, Argha, Arghya etc.)           

Arghya - Alakshmi  (Archanaa, Arjuna, Artha, Ardhanaareeshwar, Arbuda, Aryamaa, Alakaa, Alakshmi etc.)

Alakshmi - Avara (Alakshmi, Alamkara, Alambushaa, Alarka, Avataara/incarnation, Avantikaa, Avabhritha etc.)  

Avasphurja - Ashoucha  (Avi, Avijnaata, Avidyaa, Avimukta, Aveekshita, Avyakta, Ashuunyashayana, Ashoka etc.)

Ashoucha - Ashva (Ashma/stone, Ashmaka, Ashru/tears, Ashva/horse etc.)

Ashvakraantaa - Ashvamedha (Ashwatara, Ashvattha/Pepal, Ashvatthaamaa, Ashvapati, Ashvamedha etc.)

Ashvamedha - Ashvinau  (Ashvamedha, Ashvashiraa, Ashvinau etc.)

Ashvinau - Asi  (Ashvinau, Ashtaka, Ashtakaa, Ashtami, Ashtaavakra, Asi/sword etc.)

Asi - Astra (Asi/sword, Asikni, Asita, Asura/demon, Asuuyaa, Asta/sunset, Astra/weapon etc.)

Astra - Ahoraatra  (Astra/weapon, Aha/day, Ahamkara, Ahalyaa, Ahimsaa/nonviolence, Ahirbudhnya etc.)  

Aa - Aajyapa  (Aakaasha/sky, Aakashaganga/milky way, Aakaashashayana, Aakuuti, Aagneedhra, Aangirasa, Aachaara, Aachamana, Aajya etc.) 

Aataruusha - Aaditya (Aadi, Aatma/Aatmaa/soul, Aatreya,  Aaditya/sun etc.) 

Aaditya - Aapuurana (Aaditya, Aanakadundubhi, Aananda, Aanarta, Aantra/intestine, Aapastamba etc.)

Aapah - Aayurveda (Aapah/water, Aama, Aamalaka, Aayu, Aayurveda, Aayudha/weapon etc.)

Aayurveda - Aavarta  (Aayurveda, Aaranyaka, Aarama, Aaruni, Aarogya, Aardra, Aaryaa, Aarsha, Aarshtishena, Aavarana/cover, Aavarta etc.)

Aavasathya - Aahavaneeya (Aavasathya, Aavaha, Aashaa, Aashcharya/wonder, Aashvin, Aashadha, Aasana, Aasteeka, Aahavaneeya etc.)

Aahavaneeya - Aahlaada (Aahavaneeya, Aahuka, Aahuti, Aahlaada etc. )

 

 

यावत् अग्निहोत्रमस्ति, तावत् केवलं वाक्-प्राणयोः अथवा पृथिवीसूर्ययोः अस्तित्वमस्ति, न मनसः। दर्शपूर्णमासे मनसोपि अस्तित्वं भवति। एवंप्रकारेण वाक् मन प्राण अथवा पृथिवी-चन्द्र-सूर्यरूपेण संवत्सरस्य सर्जनं भवति।

     पुराणेषु सार्वत्रिकरूपेण अमावास्यादिने पितॄणां श्राद्धकर्म विहितमस्ति। अयं कथनं अमा शब्दस्य व्याख्या अस्ति। अमा शब्दस्य पूर्वरूपं आमः, अपक्वं अस्ति। आमस्य पाकानन्तरावस्था अमा अस्ति। पचनक्रिया श्रद्धया सम्पन्ना भविष्यति। दर्शपूर्णयागे स्विष्टकृद्यागानन्तरे इडाभक्षणसंज्ञकः कृत्यं भवति। पुराणेषु इडा श्रद्धायाः पुत्री अस्ति। ब्राह्मणग्रन्थेषु कथनमस्ति पाकयज्ञिया इडा। अर्थात् इडायाः मूलस्वरूपं आमः अस्ति। पाकेन तस्याः यज्ञस्वरूपं विकसितं भविष्यति। इडा शब्दस्य प्रयोगं अर्धचेतनमनसः रूपे भवति।

          अमाशब्दस्य उत्तररूपं उमा अस्ति (स्कन्दपुराणम् ७.१.५७.५ )। उमा धेनुः, गौरस्ति। गोः कार्यं ऊर्जायाः रक्षणं एवं तस्याः जीवनस्य व्यवहारे रूपान्तरणं भवति। पूर्णिमा वृषभः अस्ति, अमा गौः।

     पुराणेषु सार्वत्रिकरूपेण पितॄणां कन्या अच्छोदा शापवशेन अमावास्यायाः स्वरूपं धारयति। तदोपरि वरदानरूपेण सा व्यासस्य जन्मदात्री, निषादस्य कन्या मत्स्यगन्धा भवति। कालान्तरे सा एव सत्यवतीरूपेण विचित्रवीर्यस्य भार्या भवति।

     पुराणेषु कथनमस्ति यत् चन्द्रमसः ये पञ्चदशकलाः सन्ति, तेभ्यः पञ्चदशकलानां भक्षणं देवाः कुर्वन्ति। पञ्चदशायाः कलायाः यः शेषभागः अस्ति, तस्य भक्षणं कृत्वा पितरः जीवनयापनं कुर्वन्ति। अत्र शेषशब्दः महत्त्वपूर्णमस्ति। यज्ञेषु यः शेषभागः भवति, तस्योपरि रुद्रस्य अधिकारः भवति(ध्यातव्यं नाभागस्य संदर्भे रुद्स्य यज्ञशेषोपरि अधिकारः)। आधुनिकविज्ञानानुसारेण या ऊर्जा शेषा अस्ति, तस्याः अव्यवस्थायाः नामधेयं एण्ट्रांपी अस्ति। एषा ऊर्जा व्यर्था अस्ति, न कोपि उपयोगमस्ति। अयं चिन्तनीयमस्ति यत् किं अमावास्यारूपेण अस्याः शेषऊर्जायाः पुनरुद्धारस्य प्रकरणमस्ति। प्रत्यक्षरूपेण, दर्शपूर्णमासेष्ट्यां अग्नेः स्विष्टकृत् कृत्यं भवति येनोपरि इडा कृत्यं भवति। एतयोः द्वयोः कृत्ययोः अस्तित्वं अग्निहोत्रे नास्ति। स्विष्टकृत् अर्थात् यज्ञे यः रौद्रमस्ति, तस्य शमनम्, सु-इष्टकृत्।

    

 

अमायाः संदर्भे तैत्तिरीयब्राह्मणे कथनमस्ति

अमावास्या सुभगा सुशेवा । धेनुरिव भूय आप्यायमाना । सा नो दोहताँ सुवीर्यम् । रायस्पोषँ सहस्रिणम् । अपानाय सुराधसे । अमावास्यायै स्वाहा । - तैब्रा ३.७.५.१३

पौर्णमास्याः संदर्भे अत्रैव कथनमस्ति

ऋषभं वाजिनं वयम् । पूर्णमासं यजामहे । स नो दोहताँ सुवीर्यम् । रायस्पोषँ सहस्रिणम् । प्राणाय सुराधसे । पूर्णमासाय स्वाहा ।

 

एवं प्रकारेण, अमायाः विकसितरूपं धेनोः रूपमस्ति। पुराणेषु पार्वतीदेवी धेनोः रूपं गृह्णाति, शिवः वृषभस्य। धेनु अर्थात् धेना, वाक्। पुराणेषु पार्वत्याः द्वौ रूपौ स्तः अमा एवं उमा। प्रणवस्य संदर्भे, अमायां क्रमः एवं भविष्यति अ, म, उ। उमायां उ, म, अ। अ अर्थात् ऊर्जायाः आदानं, भरणं। उ अर्थात् धारणम्, कुम्भकं। म विसर्जनं, रेचनम्। अमायां प्राणाः रौद्रस्थित्यां भवन्ति, क्षुधया रौद्राः इत्यादि। केन प्रकारेण तेषां शमनं भवेत्। यदि जाग्रतचेतनारूपः सम्पूर्णः चन्द्रः सुप्तरूपा चेतना भवेत्, तर्हि रौद्ररूपाणां प्राणानां शमनं संभवमस्ति। पुराणेषु सार्वत्रिकरूपेण कथनमस्ति यत् आकाशे यः चन्द्रमा दृश्यमानः अस्ति, तत् अमावास्यातिथौ  कुत्र वसति। उत्तरं दीयते तत् पृथिव्यां ओषधीषु लीनं भवति। अयं कथनं भौतिकजगते सत्यमस्ति वा न वा, न ज्ञातमस्ति। किन्तु आध्यात्मिकस्तरे अस्य आवश्यकता अस्ति।

          ब्रह्माण्डपुराणे १.२.१०.७६ अमावास्यातिथौ ओषधीषु यः चन्द्रमा प्रविशति, तस्य रौद्रादि अष्टानां  स्तराणां कथनमस्ति। अन्तिमः महादेवः अस्ति।   

     काठकसंहितायां १४.४ कथनमस्ति - ग्निरेकाक्षरया मामुदजयदिमां पृथिवीमश्विनौ द्व्यक्षरया प्रमामन्तरिक्षं विष्णुस्त्र्यक्षरया प्रतिमाँ स्वर्गं लोकँ....। मा अर्थात् मायया बद्धा, सीमिता स्थितिः। माबद्ध्यां स्थित्यां कार्य-कारणेषु कारणस्य बोधं न भवति। अयं प्रतीयते यत् अस्मिन् ब्रह्माण्डे घटना आकस्मिक् रूपेण घटयति। अतः परं प्रमा एवं प्रतिमा स्तः। मा-स्तरस्य, पृथिव्याः, जयं अग्निना एकाक्षरया भवति। अत्र अक्षरशब्दः महत्त्वपूर्णमस्ति। पुराणेषु धेनुकासुरस्य आख्यानं अस्ति यः तालवने खरस्य रूपं धारयित्वा कृष्णोपरि आक्रमणं करोति। यावत् पृथिव्योपरि क्षरा, खरा स्थितिः अस्ति, तावत् सा धेनुर्नास्ति, अपितु धेनुकासुरः अस्ति। क्षरणस्य एकमुदाहरणं रसास्वादनस्य अस्ति। आस्वादनस्य स्मृतिः क्षणिकमेव भवति, तत् चिरव्यापी न अस्ति। व्यवहारे मा-स्तरतः अ-मा स्तरस्य प्राप्तिः केन प्रकारेण भवेत्, अयं दर्शपूर्णमासयागतः अन्वेषणीयमस्ति।

     पुराणेषु सार्वत्रिकरूपेण कथनमस्ति यत् अमावास्या मोक्षप्राप्त्यै साधनमस्ति, पूर्णिमा सगुण भक्त्याः प्राप्त्यै। अस्य कथनस्य व्यावहारिकरूपः किं अस्ति। अमावास्यायाः महत्त्वं गयाक्षेत्रे सर्वाधिकं भवति। तत्र देवाः गयासुरस्य देहोपरि यागं कर्तुं इच्छन्ति। किन्तु गयासुरस्य देहः स्थिरं न भवति। यदा विष्णुः गदां धारयित्वा गयासुरस्य देहोपरि स्थितः अभवत्, तदैव तस्य देहः कम्पनरहिता अभवत्। अस्य निहितार्थं अस्ति यत् ये देहस्य सुख-दुःखाः सन्ति, तेभ्यः आत्मा क्षोभग्रस्ता न भवेत्। एषा स्थितिः केन प्रकारेण प्रापणीया अस्ति। उत्तरं अस्ति यदा विष्णुः गदा गृह्णाति। गदायाः कार्यं हृदयस्य परितः ये नाड्यः सन्ति, येषु प्राणः विश्रामं करोति, तेषां व्यवस्थापनं गदा द्वारा भवति। अथवा, गदा व्याधितः, गदतः मुक्तिं ददाति।   

 

 

 

अमावास्या

टिप्पणी : अमावास्या को समझने से पूर्व अमा शब्द को समझना होगा। लिङ्ग पुराण १.८५.४५ का कथन है कि शिव के प्रणव में अ, उ, म होते हैं जबकि उमा के प्रणव में उ, म, अ। जैसा कि अन्यत्र टिप्पणियों में कहा जा चुका है, अ से तात्पर्य आदान या ग्रहण, उ से धारण तथा म से विसर्जन का है। भौतिक रूप में हठयोग में कुम्भक प्रक्रिया के माध्यम से इसे सरलता से समझा जा सकता है। फिर इस प्रक्रिया के सूक्ष्म रूपों को समझा जा सकता है। अ से तात्पर्य ब्रह्माण्ड से प्राणों के, शक्ति के आदान से है। उ से धारण से और म से विसर्जन से। आधुनिक भौतिक विज्ञान के माध्यम से हम जानते हैं कि जड पदार्थों में जिस सूर्य रश्मि का अवशोषण होता है, वह पदार्थ उस रश्मि की ऊर्जा को अपने अन्दर नहीं रखते, उसको एक भिन्न रश्मि की ऊर्जा के रूप में विसर्जित कर देते हैं। अतः अमा शब्द का एक अर्थ  हो सकता है कि आदान और विसर्जन। आदान और विसर्जन के बीच एक और घटना घटित होती है वह है किंचित् ऊष्मा का जनन। यह संकेत देता है कि जगत में कोई भी कर्म १०० प्रतिशत दक्षता से नहीं होता। ऊष्मा जनन को ओंकार के अ,उ,म में उ अर्थात् धारण शक्ति मान सकते हैं। लेकिन अमा के संदर्भ में धारण प्रक्रिया की उपेक्षा कर दी गई है, अथवा यह कहा जा सकता है कि धारण का समावेश विसर्जन प्रक्रिया के अन्तर्गत ही कर दिया गया है।  चेतन जीव के संदर्भ में विसर्जन पाप अथवा पुण्य दोनों का हो सकता है। वह चाहे तो घृणा फैला सकता है, चाहे मैत्री।

अमा का दूसरा अर्थ अ-मा के अनुसार किया जा सकता है। मा के बहुत से अर्थ होते हैं जैसे मापन, मित/सीमित, सृष्टि, लक्ष्मी इत्यादि। यदि मा को मित या सीमित मानें तो अमा का अर्थ असीमित होगा। असीमित चेतना वाली(डा. विद्यानिवास मिश्र अमा की व्याख्या इसी प्रकार किया करते थे)। यदि मा को सृष्टि अर्थ में लें(चेतना के क्षेत्र में प्रणव के अ, उ, म में म विसर्जन को सृष्टि कह सकते हैं) तो अमा का अर्थ होगा सृष्टि से रहित। आधुनिक विज्ञान के अनुसार ब्रह्माण्ड में ऐसे बहुत से पिण्ड हैं जिनसे कोई सृष्टि नहीं होती। उन पिण्डों की गुरुत्वाकर्षण शक्ति इतनी अधिक है कि कोई किरण भी उनसे बाहर नहीं निकलती, वह किरण को भी अपने अन्दर खींच लेते हैं। ऐसे पिण्डों को ब्लैक होल नाम दिया गया है। लेकिन वर्तमान संदर्भ में ब्लैक होलों को आदर्श नहीं बनाया जा सकता, क्योंकि ब्लैक होल एक प्रकार से पाप-पिण्ड हैं। आध्यात्मिक क्षेत्र में सृष्टिहीनता का महत्त्व इस प्रकार समझा जा सकता है कि बुद्ध पुरुषों की चेतना से कोई प्रतिसृष्टि नहीं होती। यदि कोई व्यक्ति गाली दे रहा है तो बुद्ध पुरुष उसकी प्रतिक्रिया नहीं करते। अथर्ववेद १२.४.३८ व ५३  में अमा को एक वशा गौ का रूप दिया गया है। वशा गौ बांझ गौ को कहते हैं जिसकी यज्ञों में आहुति देने का विधान है। डा. फतहसिंह वशा की व्याख्या इस प्रकार किया करते थे कि वशा से कोई सृष्टि नहीं होती।

     अमावास्या के रहस्य को तैत्तिरीय संहिता २.५.६.४ के इस कथन से समझा जा सकता है कि अमावास्या व पौर्णमासी को स्त्रियों के साथ गमन न करे। यदि ऐसा करेगा तो निरिन्द्रिय, अर्थात् इन्द्रिय-रहित हो जाएगा। पौराणिक कथाओं में तो सार्वत्रिक रूप से वर्णन आता है कि चन्द्रमा अपनी २७ पत्नियों में से केवल रोहिणी के साथ रहता था जिसके कारण उसे उसके श्वसुर दक्ष ने शाप दे दिया और वह राजयक्ष्मा से ग्रसित हो गया। लेकिन तैत्तिरीय संहिता २.५.६.४ के अनुसार चन्द्रमा केवल अपनी दो पत्नियों के साथ गमन नहीं करता था अमावास्या व पौर्णमासी के साथ। इस कारण उसे राजयक्ष्मा रोग हुआ। इस कथन का परोक्ष अर्थ यह हो सकता है कि अमावास्या व पौर्णमासी के साथ चन्द्रमा/मन का संयोग नहीं होना चाहिए। अमावास्या को कोई विशिष्ट प्रकार की वाक् माना जा सकता है। मन के साथ संयोग के बदले इन तिथियों को इनका इन्द्र के साथ संयोग अपेक्षित है। इन्द्र प्राणों का या सूर्य का या मोक्ष का या शान्त प्राणों का प्रतीक हो सकता है। मन सृष्टि के लिए उत्तरदायी है। न मन से संयोग होगा, न सृष्टि होगी।

     अमावास्या को दधि और सान्नाय्य का यज्ञ कार्य में उपयोग करने का विधान है। दधि का अर्थ होता है जो धारण करती है। किसको धारण करती है, यह स्पष्ट नहीं है। भौतिक रूप में तो दधि में घृत या आज्य का धारण होता है। यह आज्य प्राणों का या इन्द्र का प्रतीक हो सकता है। सान्नाय्य पयः और दधि का एक मिश्रण होता है। पयः का अर्थ हो सकता है तनावों से मुक्त। सान्नाय्य शब्द का मूल सं-नय हो सकता है। नय का अर्थ होता है श्रुति को स्मृति बनाना, अपने व्यवहार में उतारना। पुराणों में सार्वत्रिक रूप से अमावास्या की उत्पत्ति के पीछे अच्छोदा कन्या की कथा दी गई है जिसको अमावसु पितर पर आसक्ति के कारण धरा पर आना पडा और उसने अमावसु/उपरिचर वसु की कन्या मत्स्यगन्धा/सत्यवती आदि के रूप में जन्म लिया। अच्छोदा कन्या किसी प्रकार से हमारी आत्मा की आवाज हो सकती है। अच्छोदा(अच्छः-दा) शब्द को स्वच्छ शब्द के आधार पर समझा जा सकता है। यह कथा संकेत देती है कि आत्मा की आवाज का अवतरण वैखरी स्तर तक, स्थूल स्तर तक हो, वह अमावास्या कहलाएगी। यह कथन इस कथन के विपरीत जाता प्रतीत होता है कि अमा का अर्थ है कि जब कोई प्रतिसृष्टि न हो। दोनों कथनों की इस प्रकार व्याख्या अपेक्षित है कि यह दोनों एक दूसरे के विपरीत अर्थ न दें।    

वैदिक निघण्टु में अमा का परिगणन गृह नामों के अन्तर्गत किया गया है और उपरोक्त कथन के आधार पर इस गृह की विशिष्टता को समझा जा सकता है। उपनिषदों आदि में अमा को प्रजापति की षोडशी कला, आत्मा कहा गया है तथा शेष १५ कलाओं को उसका वित्त कहा गया है। जब अमावास्या को चन्द्रमा की केवल १६वीं कला शेष बचती है तो उससे तात्पर्य यह लिया जा सकता है कि आत्मा से शरीर रूपी वित्त का भार उतर गया है।

अथर्ववेद ७.८४ सूक्त का देवता अमावास्या है। ब्राह्मण ग्रन्थों में पूर्णिमा व अमावास्या के दिनों में करणीय कृत्यों का विस्तार से वर्णन है। तैत्तिरीय ब्राह्मण ३.७.१५.१३ में पूर्णिमा की रेतःसिंचन करने वाले ऋषभ और अमावास्या की धेनु रूप में कल्पना की गई है। जैमिनीय ब्राह्मण २.३८ के अनुसार पूर्णिमा को पुरोडाश व अमावास्या को दधि की हवि का विधान है। शांखायन ब्राह्मण ३.६ के अनुसार पूर्णिमा को अग्नीषोम का व अमावास्या को इन्द्राग्नि का यजन किया जाता है। ताण्ड्य ब्राह्मण २५.१० के अनुसार पूर्णिमा को गो स्तोम व बृहत् साम होता है जबकि अमावास्या को आयु स्तोम व रथन्तर साम। गोपथ ब्राह्मण २.१.१२ में अमावास्या को सरस्वती और पूर्णिमा को सरस्वान् गया है। षड्-विंश ब्राह्मण ५.६.२ में अमावास्या को चन्द्रमा की १६वीं कला का पितरों आदि द्वारा पान का उल्लेख है। लेकिन पुराणों का कथन है कि पितर चन्द्रमा की १६वीं कला का पान नहीं करते, अपितु अवशिष्ट १५वीं कला का ही पान करते हैं। षड्-विंश ब्राह्मण ५.६.५ में कृतयुग को कुहू व द्वापर को सिनीवाली कहा गया है।

प्रथम प्रकाशन १९९४ई., संशोधन : ३१-८-२०१२(अधिक भाद्रपद पूर्णिमा, विक्रम संवत् २०६९)

कर्मकाण्डे दर्शपूर्णमासः

 

अग्न्याधानम्--

 

 

 

कर्मकाण्डे दर्शपूर्णमासयागे पूर्वदिने अग्न्याधानं भवति। वेद्यां अग्नीनां कल्पनं केन प्रकारेण अस्ति, अस्मिन् संदर्भे

आहवनीयः--

 

अग्निं गृह्णामि सुरथं यो मयोभूः । य उद्यन्तमारोहति सूर्यमह्ने ।

आदित्यं ज्योतिषां ज्योतिरुत्तमम् । श्वो यज्ञाय रमतां देवताभ्यः ।

वसून्रुद्रा नादित्यान् । इन्द्रेण सह देवताः ।

ताः पूर्वः परिगृह्णामि । स्व आयतने मनीषया ।

इमामूर्जं पञ्चदशीं ये प्रविष्टाः । तान्देवान्परिगृह्णामि पूर्वाः ३

अग्निर्हव्यवाडिह तानावहतु । पौर्णमासँ हविरिदमेषां मयि ।

आमावास्यँ हविरिदमेषां मयि ।

अन्तरालम् --

अन्तराग्नी पशवः । देवसँसदमागमन् ।

तान्पूर्वः परिगृह्णामि । स्व आयतने मनीषया ।

इह प्रजा विश्वरूपा रमन्ताम् ।

 

गार्हपत्यः --

अग्निं गृहपतिमभि संवसानाः ।

ताः पूर्वः परिगृह्णामि स्व आयतने मनीषया ।

इह पशवो विश्वरूपा रमन्ताम् ।

अग्निं गृहपतिमभि संवसानाः । तान्पूर्वः परिगृह्णामि ।

स्व आयतने मनीषया ।

 

दक्षिणाग्निः--

अयं पितृणामग्निः । अवाड्ढव्या पितृभ्य आ ।

तं पूर्वः परिगृह्णामि । अविषं नः पितुं करत् ।

 

सभ्य-आवसथ्य --

अजस्रं त्वाँ सभापालाः  विजयभागँ समिन्धताम् ।

अग्ने दीदाय मे सभ्य । विजित्यै शरदः शतम् ।

अन्नमावसथीयम् । अभिहराणि शरदः शतम् ।

आवसथे श्रियं मन्त्रम् । अहिर्बुध्नियो नियच्छतु ।

इदमहमग्निज्येष्ठेभ्यः । वसुभ्यो यज्ञं प्रब्रवीमि । इदमहमिन्द्र ज्येष्ठेभ्यः तैब्रा ३.७.४.

 

अंस

?  ?  ? 

 

दर्शेष्टि में अग्नि और इन्द्राग्नी ये दो पुरोडाश को ग्रहण करते हैं। अग्नि और इन्द्राग्नी इन दोनों पुरोडाश देवताओं के मध्य में विष्णु का आवाहन होता है। पौर्णमासेष्टि में अग्नि, अग्नीषोम व अग्नीषोम इन तीन प्रधान देवताओं के निमित्त याग होता है। - कात्यायनयज्ञपद्धतिविमर्श (डा. मनोहरलाल द्विवेदी, राष्ट्रियसंस्कृतसंस्थानम्, १९८८)

 

 

 

 

 

संदर्भ(अपूर्ण)

*उत् ते॒ वय॑श्चिद् वस॒तेर॑पप्त॒न् नर॑श्च॒ ये पि॑तुभाजो॒ व्यु॑ष्टौ। अ॒मा स॒ते व॑हसि॒ भूरि॑ वा॒ममुषो॑ देवि दाशुषे॒ मर्त्या॑य॥ - ऋ. १.१२४.१२, ६.६४.६

उषा काल होने पर पक्षी अपने घोंसले से ऊपर उडते हैं। मनुष्य भी उषाकाल होने पर पिता रूप अन्न प्राप्ति की इच्छा से निकल पडते हैं। हे उषा देवी, जो मनुष्य अमा में स्थित हैं और तुम्हारी अर्चना करते हैं, तुम उनके लिए बहुत सा वाम रूपी धन देती हो। ऐसा प्रतीत होता है कि वाम धन से तात्पर्य प्रकृति में, स्मृति के स्तर पर प्राप्त होने वाले धन से है।

*अ॒मेव॑ नः सुहवा॒ आ हि गन्त॑न॒ नि ब॒र्हिषि॑ सदतना॒ रणि॑ष्टन। अथा॑ मन्दस्व जुजुषा॒णो अन्ध॑स॒स्त्वष्ट॑र्दे॒वेभि॒र्जनि॑भिः सु॒मद्ग॑णः॥ - ऋ. २.३६.३

     हे त्वष्टा देव, तुम सु-आह्वान वाले हो, हमारे पास देवपत्नियों सहित शोभन समूह बनाकर अमा जैसे होकर आओ, बर्हियों पर विराजमान होओ और प्रसन्न होओ। सोम के अन्धस रूप का पान करके हर्षित होओ। इस ऋचा का विनियोग तृतीय सवन में नेष्टा नामक ऋत्विज द्वारा प्रस्थित याज्या हेतु है। त्वष्टा की प्रवृत्ति बहिर्मुखी होती है। जब सूर्य बन ही रहा था और उसने विकसित रूप धारण नहीं किया था, तो पौराणिक कथा के अनुसार त्वष्टा/तक्षा/बढई ने उसको अपने चक्र पर चढा कर उसके अवांछित तेज का कर्तन कर दिया था और कर्तित तेज से देवों के अस्त्रों का निर्माण किया था। इस ऋचा का विनियोग प्रस्थित याज्या हेतु क्यों है, यह अन्वेषणीय है। जैसा कि इन्द्रप्रस्थ शब्द की टिप्पणी में कहा जा चुका है, एक प्रस्थिति होती है, एक चरु। प्रस्थिति में ढेर लगाया जाता है, एकत्रित किया जाता है, जबकि अमावास्या को चरु देने का विधान है।

*स॒माव॑वर्ति॒ विष्ठि॑तो  जिगी॒षुर्विश्वे॑षां॒ काम॒श्चर॑ताम॒माभू॑त्। शश्वाँ॒ अपो॒ विकृ॑तं हि॒त्व्यागा॒दनु॑ व्र॒तं स॑वि॒तुर्दैव्य॑स्य॥(दे. सविता) - ऋ. २.३८.६

*सच॑स्व ना॒यमव॑से अ॒भीक॑ इ॒तो वा॒ तमि॑न्द्र पाहि रि॒षः। अ॒मा चै॑न॒मर॑ण्ये पाहि रि॒षो मदे॑म श॒तहि॑माः सु॒वीराः॑॥ - ऋ. ६.२४.१०

*यू॒यं हि ष्ठा सु॑दानव इन्द्र॑ज्येष्ठा अ॒भिद्य॑वः। कर्ता॑ नो॒ अध्व॒न्ना सु॒गं गो॒पा अ॒मा॥(दे. विश्वेदेवाः) - ऋ. ६.५१.१५

     हे विश्वेदेवों, तुम हमारे अध्व/मार्ग को सुगम बनाओ क्योंकि तुम अमा की रक्षा करने वाले हो।

*यदीद॒हं यु॒धये॑ सं॒नया॒न्यदे॑वयून् त॒न्वा॒३॒॑ शूशुजानान्। अ॒मा ते॒ तुम्रं॑ वृष॒भं प॑चानि ती॒व्रं सु॒तं प॑ञ्चद॒शं नि षि॑ञ्चम्॥ - ऋ. १०.२७.२

     तुम्रं प्रेरकं सायण भाष्य। हे इन्द्र, जब मैं देवयज्ञ न करने वाले और केवल अपने शरीर का पालन करने वाले शत्रुओं से युद्ध करने के लिए जाता हूं, उस समय अमा होकर तुम्हारे लिए प्रेरक वृषभ को पकाता हूं और १५ का तीव्र पाक हो जाने पर उससे सिंचन करता हूं। वृषभ से तात्पर्य उग्र, अशान्त प्राणों से हो सकता है।

*स्व॒स्तिरिद्धि प्रप॑थे॒ श्रेष्ठा॒ रेक्ण॑स्वस्त्य॒भि या वा॒ममेति॑। सा नो॑ अ॒मा सो अर॑णे॒ नि पा॑तु स्वावे॒शा भ॑वतु दे॒वगो॑पा॥ - ऋ. १०.६३.१६

प्रपथ में श्रेष्ठ स्वस्ति हो, रेक्ण/धन स्वस्ति जो वाम की ओर जाती है। वह हमारे लिए अमा बने, वह अरण्य में हमारी रक्षा करे, वह देवों द्वारा रक्षित हो और स्वावेशा/भली प्रकार रहने योग्य हो।

*अग्ने॑ म॒न्युं प्र॑तिनुदन् परे॑षा॒मद॑ब्धो गो॒पाः परि॑ पाहि न॒स्त्वम्। प्र॒त्यञ्चो॑ यन्तु नि॒गुतः॒ पुन॒स्ते॒३॒॑मैषां॑ चि॒त्तं॑ प्र॒बुधां॒ वि ने॑शत्॥ - ऋ. १०.१२८.६, तु. शौ.अ. ५.३.२

     हे अग्नि, तुम दूसरों के मन्यु/क्रोध को व्यर्थ करते हुए अदब्ध/अपराजेय रक्षक बनकर हमारी रक्षा करो। वे अपने उद्देश्य में असफल होकर दूर चले जाएं और अमा इन प्रबुद्धों का चित्त नष्ट? कर दे।

*न॒हि तेषा॑म॒मा च॒न नाध्व॑सु वार॒णेषु॑। ईशे॑ रि॒पुर॒घशं॑सः॥ - ऋ. १०.१८५.२

     यदि उनका अमा हो जाए तो अघ/घनता की हानि करने वाला शत्रु  दुर्गम अध्वा में भी उनके ऊपर हावी नहीं हो सकता।

*अ॒मा कृ॒त्वा पा॒प्मानं॒ यस्तेना॒न्यं जिघां॑सति। अश्मा॑न॒स्तस्यां॑ द॒ग्धायां॑ बहु॒लाः फट् क॑रिक्रति॥ - शौ.अ. ४.१८.३

जो पाप्मा को अमा करके उसके द्वारा अन्य की हिंसा करता है, पाषाण - - - -

*अग्ने॑ म॒न्युं प्र॑तिनु॒दन् परे॑षां॒ त्वं नो॑ गो॒पाः परि॑ पाहि वि॒श्वतः॑। अपा॑ञ्चो यन्तु नि॒वता॑ दुर॒स्यवो॒ऽमैषां॑ चि॒त्तं प्र॒बुधां॒ वि ने॑शत्॥ - शौ.अ. ५.३.२, तु. ऋ. १०.१२८.६

*यत् ते॑ दे॒वा अकृ॑ण्वन् भाग॒धेय॒ममा॑वास्ये सं॒वस॑न्तो महि॒त्वा। तेना॑ नो य॒ज्ञं पि॑पृहि विश्ववारे र॒यिं नो॑ धेहि सुभगे सु॒वीर॑म्॥ अ॒हमे॒वास्म्य॑मावा॒स्या॒३॒॑ मामा व॑सन्ति सु॒कृतो॒ मयी॒मे। मयि॑ दे॒वा उ॒भये॑ सा॒ध्याश्चेन्द्र॑ज्येष्ठाः॒ सम॑गच्छन्त॒ सर्वे॑॥ आग॒न् रात्री॑ सं॒गम॑नी॒ वसू॑ना॒मूर्जं॑ पु॒ष्टं वस्वा॑वे॒शय॑न्ती। अ॒मा॒वा॒स्यायै ह॒विषा॑ विधे॒मोर्जं॒ दुहा॑ना॒ पय॑सा न॒ आग॑न्॥ अमा॑वास्ये॒ न त्वदे॒तान्य॒न्यो विश्वा॑ रू॒पाणि॑ परि॒भूर्ज॑जान। यत् का॑मास्ते जुहु॒मस्तन्नो॑ अस्तु व॒यं स्या॑म॒ पत॑यो रयी॒णाम्॥ - शौ.अ. ७.८४.१-४

अथर्ववेद के उपरोक्त सूक्त का अन्तिम मन्त्र वेद के प्रसिद्ध मन्त्र प्रजापते न त्वदेतान्यन्यो विश्वा जातानि परि ता बभूव इति(ऋग्वेद १०.१२१.१०) का रूपान्तर है। ऐसा प्रतीत होता है कि रयि वह धन है जिसके द्वारा मन्द गति वाले प्राणों को बल मिलता है, पितृयान मार्ग। दूसरी ओर तीव्र गति वाले प्राण होते हैं जिनको देवयान मार्ग कहा गया है।

*अ॒मा घृ॒तं कृ॑णुते॒ केव॑लमाचा॒र्यो भू॒त्वा वरु॑णो॒ यद्य॒दैच्छ॑त् प्र॒जाप॑तौ। तद् ब्र॑ह्मचा॒री प्राय॑च्छ॒त् स्वान् मि॒त्रो अध्या॒त्मनः॑॥ - शौ.अ. ११.७.१५

*यो वे॒हतं॒ मन्य॑मानो॒ऽमा च॒ पच॑ते व॒शाम्। अप्य॑स्य पु॒त्रान् पौत्रां॑श्च या॒चय॑ते बृ॒हस्पतिः॑॥ - शौ.अ. १२.४.३८

*यदि॑ हु॒तां यद्यहु॑ताम॒मा च॒ पच॑ते व॒शाम्। दे॒वान्त्सब्रा॑ह्मणानृ॒त्वा जि॒ह्मो लो॒कान्निर्ऋ॑च्छति॒ शौ.अ. १२.४.५३

*प्र रे॒भासो॑ मनी॒षा वृषा॒ गाव॑ इवेरते। अ॒मो॒त॒पुत्र॑का ए॒षाम॒मोत॑ गा॒ इवा॑सते॥ - शौ.अ. २०.१२७.५

*ब॒र्हिषा॑ पू॒र्णमा॑से व्र॒तमुपै॑ति व॒त्सैर॑मावा॒स्या॑याम् ए॒तद्ध्ये॑तयोरा॒यत॑नम् तै.सं. १.६.७.२

     बर्हि के द्वारा पूर्णमास का व्रत सम्पन्न करते हैं, वत्सों द्वारा अमावास्या का। कर्मकाण्ड की वास्तविकता यह है कि अमावास्या को गौ के वत्स का अपाकरण कर दिया जाता है, अर्थात् उसके द्वारा गौ दुग्ध पान का वर्जन कर दिया जाता है और सारे दुग्ध का उपयोग यज्ञ कार्य हेतु किया जाता है। गौ का वत्स कौन है? कहा गया है कि वायव्य वत्स है जिसका अर्थ यह हो सकता है कि प्राण गौ के वत्स हैं। अमावास्या के दिन प्राण का महत्त्व नहीं है, अपान का है। अपान अर्थात् हमारे निचले स्तर के, हमारे शरीर का पालन करने वाले प्राण, पितर कहलाने वाले प्राण। देवस्तर का पालन करने वाले प्राण नहीं। 

*या॑वदग्निहो॒त्रमासीत्तावा॑नग्निष्टो॒मो याव॑ती पौर्णमा॒सी तावा॑नु॒क्थ्यो॑ याव॑त्यमावा॒स्या॑ तावा॑नतिरा॒त्रो तै.सं. १.६.९.१

*चन्द्रमा का पापयक्ष्मा से ग्रस्त होना व उससे मुक्ति : यः पा॑पय॒क्ष्मगृ॑हीतः॒ स्यात् तस्मा॑ ए॒तमा॑दि॒त्यं च॒रुं निर्व॑पेदादि॒त्याने॒व स्वेन॑ भाग॒धेये॒नोप॑ धावति॒ त ए॒वैनं॑ पा॒पात् स्रामा॑न्मुञ्चन्त्यमावा॒स्या॑यां॒ निर्व॑पेद॒ममे॒वैन॑मा॒प्याय॑मान॒मन्वा प्या॑ययति॒ नवो॑नवो भवति॒ जाय॑मान इति॑ पुरोनुवा॒क्या॑ भव॒त्यायु॑रे॒वास्मि॒न् तया॑ दधाति॒ यमा॑दि॒त्या अँ॒ँशुमा॑प्या॒यय॒न्तीति॑ या॒ज्यैवैन॑मे॒तया॑ प्याययति। - तै.सं. २.३.५.३

*घ्नन्ति॒ वा ए॑नं(वृत्रम्) पू॒र्णमास॒ आऽमा॑वा॒स्या॑यां प्याययन्ति॒ तस्मा॒द्वार्त्र॑घ्नी पू॒र्णमा॒सेऽनू॑च्येते॒ वृध॑न्वती अमावा॒स्या॑यां॒ तै.सं. २.५.२.४

*यदा॑ग्ने॒यो॑ ऽष्टाक॑पालोऽमावा॒स्या॑यां॒ भव॑त्यै॒न्द्रं दधि॑, दे॒वता॑श्चै॒व तेने॑न्द्रि॒यं च॒ यज॑मा॒नोऽव॑ रुन्द्ध॒ तै.सं. २.५.३.२

इस कथन से आगे कहा गया है कि वृत्र का हनन करते हुए इन्द्र का इन्द्रिय वीर्य पृथिवी पर बिखर गया। उससे ओषधि-वीरुध उत्पन्न हुए। इन्द्र प्रजापति के पास गया । प्रजापति ने पशुओं को कहा कि इन्द्र के लिए सं-नय। तब पशुओं ने ओषधियों से अपने में संनयन किया। उन्हें दुहा गया। चूंकि समनयन किया गया, अतः इससे सान्नाय्य बना।

*इन्द्रो॑ वृ॒त्रँँ ह॒त्वा परां॑ परा॒वत॑मगच्छ॒दपा॑राध॒मिति॒ मन्य॑मान॒स्तं दे॒वताः॒ प्रैष॑मैच्छ॒न्त्सो॑ऽब्रवीत् प्र॒जाप॑ति॒र्यः प्र॑थ॒मो॑ऽनुवि॒न्दति॒ तस्य॑ प्रथ॒मं भा॑ग॒धेय॒मिति॒ तं पि॒तरोऽन्व॑विन्द॒न् तस्मा॑त् पि॒तृभ्यः॑ पूर्वे॒द्युः क्रि॑यते॒ तै.सं. २.५.३.६

दर्शयागदेवतानाममावास्यायामारम्भः प्रतिपदि तद्यागः। पितॄणां त्वमावास्यायामेव पिण्डदानम् सायण भाष्य। उपरोक्त कथन में पितरों द्वारा सर्वप्रथम इन्द्र के अनुविन्दन का उल्लेख है। अन्यत्र अग्नि द्वारा। इसी कारण इन्द्राग्नि देवता का अमावास्या को यजन किया जाता है।

*अ॒मा वै नो॒ऽद्य वसु॑ वस॒तीतीन्द्रो॒ हि दे॒वानां॒ वसु॒, तद॑मावा॒स्या॑या अमावास्य॒त्वम् तै.सं. २.५.३.७, तु. मा.श. १.६.४.३

*स त्वै द॑र्शपूर्णमा॒सौ य॑जेत॒ य ए॑नौ॒ सेन्द्रौ॒ यजे॒तेति॑ - - - ऐ॒न्द्रं दध्य॑मावा॒स्या॑यां॒ तेना॑मावा॒स्या॑ सेन्द्रा॒ तै.सं. २.५.४.१

*दाक्षायणयज्ञः -- मैत्रावरु॒ण्याऽऽमिक्षयाऽमावा॒स्यायां यजेत - - - तेषां॑ मैत्रावरु॒णी व॒शाऽमा॑वा॒स्या॑यामनूबन्ध्या॑ तै.सं. २.५.५.४

*नाऽमा॑वा॒स्या॑यां च पौर्णमा॒स्यां च॒ स्त्रिय॒मुपे॑या॒द्, यदु॑पे॒यान्निरि॑न्द्रियः स्या॒त् तै.सं. २.५.६.४

अमावास्या के रहस्य को इस कथन से समझा जा सकता है कि अमावास्या व पौर्णमासी को स्त्रियों के साथ गमन न करे। यदि ऐसा करेगा तो निरिन्द्रिय, अर्थात् इन्द्रिय-रहित हो जाएगा। पौराणिक कथाओं में तो सार्वत्रिक रूप से वर्णन आता है कि चन्द्रमा अपनी २७ पत्नियों में से केवल रोहिणी के साथ रहता था जिसके कारण उसे उसके श्वसुर दक्ष ने शाप दे दिया और वह राजयक्ष्मा से ग्रसित हो गया। लेकिन तैत्तिरीय संहिता २.५.६.४ के अनुसार चन्द्रमा केवल अपनी दो पत्नियों के साथ गमन नहीं करता था अमावास्या व पौर्णमासी के साथ। इस कारण उसे राजयक्ष्मा रोग हुआ। इस कथन का परोक्ष अर्थ यह हो सकता है कि अमावास्या व पौर्णमासी के साथ चन्द्रमा/मन का संयोग नहीं होना चाहिए। पुराणों में तो अमावास्या को सोम का योग होने पर गंगा स्नानादि पवित्र माना  जाता है। अमावास्या को कोई विशिष्ट प्रकार की वाक् माना जा सकता है। मन के साथ संयोग के बदले इन तिथियों को इनका इन्द्र के साथ संयोग अपेक्षित है। इन्द्र प्राणों का या सूर्य का या मोक्ष का या शान्त प्राणों का प्रतीक हो सकता है। मन सृष्टि के लिए उत्तरदायी है। न मन से संयोग होगा, न सृष्टि होगी।

 

*सोम॑स्य॒ वै राज्ञो॑ऽर्धमा॒सस्य॒ रात्र॑यः॒ पत्न॑य आस॒न्, तासा॑ममावा॒स्यां॑ च पौर्णमा॒सीं च॒ नोपै॒त्, ते ए॑नम॒भि सम॑नह्येतां॒ तं यक्ष्म॑ आर्च्छ॒द् राजा॑नं॒ यक्ष्म॑ आर॒दिति॒ तद्रा॑जय॒क्ष्मस्य॒ जन्म॒, यत्पापी॑या॒नभ॑व॒त् तत्पा॑पय॒क्ष्मस्य॒ यज्जा॒याभ्या॒मवि॑न्द॒त्, तज्जा॒येन्य॑स्य॒ तै.सं. २.५.६.४

*स॒दृशी॑नाँ॒ँ रात्री॑णाममावा॒स्या॑यां च पौर्णमा॒स्यां च॑ दे॒वा इ॑ज्यन्ते तै.सं. २.५.६.६

*गायत्री वा अनुमतिस् त्रिष्टुग् राका जग॑ती सिनीवा॒ल्य॑नु॒ष्टुप् कु॒हूः... पूर्वपक्षो राकापरपक्षः कुहूर् अमावास्या सिनीवली पौर्णमास्य् अनुमतिश् तै.सं. ३.४.९.६

     जगती छन्द से तात्पर्य पाप नाश से होता है। शतपथ ब्राह्मण ६.३.१.३८ में अभ्रि द्वारा भूमि का खनन करके मृदा सम्भरण के संदर्भ में जगती के संदर्भ में कहा गया है कि जगती द्वारा हम खनन में समर्थ हों । अनुष्टुप् छन्द को सार्वत्रिक रूप से वाक् कहा गया है । वैदिक साहित्य में वाक् के ४ स्तर होते हैं - परा, पश्यन्ती, मध्यमा व वैखरी । वैखरी वाक् वह है जो हमें मर्त्य स्तर पर शकुनों के रूप में सुनाई देती है । अनुष्टुप् छन्द का प्रभाव यह हो सकता है कि परा वाक् का अवतरण वैखरी के स्तर तक हो जाए । कोकिल वाक् को कुहू कहते हैं।

*सर॑स्वत्यै च॒रुर्भ॑वति॒ सर॑स्वते॒ द्वाद॑शकपालोऽमावा॒स्या॑ वै सर॑स्वती पू॒र्णमा॑सः॒ सर॑स्वा॒न् तै.सं. ३.५.१., तु. -  मै.सं. १.४.१५, गो.ब्रा. २.१.१२

     चरु की विशेषता यह कही गई है कि इसको पका-पका कर इसमें क्षीर, दधि, घृत, मांस, अन्न, मधु, रस उत्पन्न करने हैं। यह तप द्वारा ही हो सकता है। चरु की दूसरी विशेषता इसका चरण/गमन गुण है, जैसे सूर्य आकाश में विचरण करता है। यह प्रस्थिति/ढेर से उल्टा है। उपरोक्त कथन में प्रस्थिति का प्रतीक सरस्वान् है।

*इन्द्रो॑ वृ॒त्रं ह॒त्वा। असु॑रा॒न् परा॒भाव्य॑। सो॑ऽमावा॒स्यां॑ प्रत्याग॑च्छत्। ते पि॒तरः॑ पूर्वे॒द्युराग॑च्छन्। पि॒तॄन्य॒ज्ञो॑ऽच्छत्। तं दे॒वाः पुन॑रयाचन्त। - - -अ॒स्मभ्य॑मे॒व पू॒॑र्वेद्युः क्रि॑याता॒ इति। - - - तस्मा॑त्पि॒तृभ्यः॑ पूर्वे॒द्युः क्रि॑यते। तै.ब्रा. १.३.१०.१

*राजसूयः -- अ॒ग्नि॒ष्टो॒मः पूर्व॒मह॑र्भवति। अ॒ति॒रा॒त्र उत्त॑रम्। नानै॒वाहो॑रा॒त्रयोः॒ प्रति॑तिष्ठति। पौ॒र्ण॒मा॒स्यां पूर्व॒मह॑र्भवति। व्य॑ष्टकाया॒मुत्त॑रम्। नानै॒वार्ध॑मा॒सयोः॒ प्रति॑तिष्ठति। अ॒मा॒वा॒स्या॑यां॒ पूर्व॒मह॑र्भवति। उद्दृष्ट॒ उत्त॑रम्। नानै॒व मास॑योः॒ प्रति॑तिष्ठति। - तै.ब्रा. १.८.१०.२

     उपरोक्त कथन के आरम्भ को इस प्रकार समझा जा सकता है कि अग्निष्टोम को अग्निहोत्र का रूप कहा गया है।

*कामो॒ वा अ॑मावा॒स्या॑। काम॒ आज्य॑म्। कामे॑नै॒व कामँ॒ँ सम॑र्धयति।-  - अ॒मा॒वा॒स्या॑यै॒ स्वाहा॒ कामा॑य॒ स्वाहा ग॑त्यै॒ स्वाहेति॑।(कामो वै पौर्णमासी। काम आज्यम्। कामेनैव कामं समर्धयति। - - ) तै.ब्रा. ३.१.५.१५

*अमावास्यायां स्रुवेण पार्वण होममन्त्रम्-- - - -अ॒मा॒वा॒स्या॑ सु॒भगा॑ सु॒शेवा॑। धे॒नुरि॑व॒ भूय॑ आ॒प्याय॑माना। सा नो॑ दोहताँँ सु॒वीर्य॑म्। रा॒यस्पोषँ॑ँ सह॒स्रिण॑म्। अ॒पा॒नाय॑ सु॒राध॑से। अ॒मा॒वा॒स्या॑यै॒ स्वाहा॑। - तै.ब्रा. ३.७.५.१३

*नाचिकेताग्निचयनम् पौ॒र्ण॒मा॒स्यष्ट॑काऽमावा॒स्या॑। अ॒न्ना॒दाः स्था॑न्न॒दुघो॑ यु॒ष्मासु॑। - - - तै.ब्रा. ३.११.१.१९

*ग्रहण काल में जो अनाध्याय के कारण हैं, वह कारण ब्रह्मयज्ञाध्ययन में स्वाध्याय के निवारण का कारण नहीं बनते, इसके स्पष्टीकरण के लिए अनाध्याय कारणों की यज्ञांगता तस्य॒ वा ए॒तस्य॑ य॒ज्ञस्य॒ मेघो॑ हवि॒र्धानं॑ वि॒द्युद॒ग्निर्व॒र्षँँ ह॒विस्त॑नयि॒त्नुर्व॑षट्का॒रो यद॑व॒स्फूर्ज॑ति॒ सोऽनु॑वषट्का॒रो वा॒युरा॒त्माऽमा॑वा॒स्या॑ स्विष्ट॒कृत् तै.आ. २.१४.१

     यदि उपरोक्त कथन केवल ग्रहण काल से सम्बन्धित होता तो इस कथन में मेघ आदि का उल्लेख नहीं आना चाहिए था और यदि यह कथन वर्षा काल से सम्बन्धित है तो इसमें अमावास्या का उल्लेख नहीं आना चाहिए था। इतना अस्पष्ट होते हुए भी इस कथन से एक तथ्य निकलकर सामने आता है जो अन्यत्र कहीं भी इतना स्पष्ट नहीं किया गया है। वह यह है कि अमावास्या स्विष्टकृत् (अग्नि) का रूप है। प्रत्येक याग में, विशेषकर दर्शपूर्णमास याग में, याग के अन्त में जो रौद्र प्राण बच रहते हैं, उन्हें किसी प्रकार से शान्त करना होता है, सु-इष्ट करने वाला बनाना होता है। याग का मुख्य प्रकरण यह चल रहा था कि मन का जो भाग दिव्य बन गया था, जो सोम बन गया था, जिसका देवतागण पान कर सकते थे, उस भाग का इन्द्र/सूर्य/देवगण द्वारा पान करने के पश्चात् एक ऐसा भाग बच गया है जो बेकार है। कहा गया है कि अमावास्या के दिन यह भूमि पर आ जाता है अथवा देवों द्वारा फेंक दिया जाता है और चन्द्रमा का यह भाग पृथिवी पर ओषधि-वनस्पतियों-वीरुधों में समा जाता है। साथ ही साथ इन्द्र/सूर्य भी अदृश्य हो जाता है(यह स्थिति सूर्य ग्रहण काल में होती है)। अब देवगण अदृश्य इन्द्र की खोज करते हैं तो सबसे पहले पितृगण इन्द्र का पता बता देते हैं। अतः अमावास्या को सबसे पहले पिण्डपितृयज्ञ होता है। फिर पशुओं द्वारा ओषधि-वनस्पतियों के भक्षण के पश्चात् उनसे जिस पयः का दोहन किया जाता है, उस पयः को इन्द्र के जीवन धारण के लिए प्रस्तुत किया जाता है। इससे यह निष्कर्ष निकलता है कि मन का या चन्द्रमा का जो बेकार भाग भूमि पर अवतरित होकर ओषधियों में प्रवेश करता है, वह  अचेतन मन है। डा. फतहसिंह के शब्दों में, अचेतन मन का कार्य है हमारी पितृ शक्तियों का पालन करना। पितृ शक्तियों से तात्पर्य यह है कि हमारे दैनिक जीवन के अधिकांश कार्य हमारे अचेतन मन द्वारा नियन्त्रित किए जा रहे हैं। यह अचेतन मन हमें पालने वाली शक्ति बन रहा है। वर्तमान समय में आचार्य रजनीश ने अपने व्याख्यानों में बहुत अधिक बल दिया है कि अपने जीवन में सारे कार्य चेतन मन से करना सीखो, अचेतन मन पर से कार्य का बोझ हटा दो। सारी विपश्यना साधना यही है। वैदिक साहित्य इसका प्रस्तुतीकरण दूसरे ढंग से करता है। वह कहता है कि पशु बनकर इस अचेतन मन का भक्षण करके इसे पयः में रूपान्तरित करो। फिर इस पयः को इन्द्र को समर्पित करो। पयः से तात्पर्य है तनाव से, बन्धन से मुक्त स्थिति। प्रकृति में जहां-जहां भी तनाव बढता है, वह पयः को खोती जाती है। गुरुत्वाकर्षण शक्ति के तनाव से मुक्त रखने के लिए वनस्पति जगत को बीज के परितः मोटी काष्ठ का निर्माण करना पडता है जिससे बीज तनाव से मुक्त रहे।     

*अमावास्यायां यदहश्चन्द्रमसं न पश्यन्ति तदहः पिण्डपितृयज्ञंकुरुते. अपराह्णे ऽधिवृक्षसूर्ये वा पिण्डपितृयज्ञेन चरन्ति। अपां मेध्यं यज्ञियमिति समूलं सकृदाच्छिन्नं बर्हिराहरति। - - - - - - (पिण्डपितृयज्ञविधि)- आप.श्रौ.सू. १.७.१

*अमावास्यायां रात्र्यां स्वयं यजमानो यवाग्वाग्निहोत्रं जुहोत्यग्निहोत्रोष्छेषणमातञ्चनार्थं निदधाति। नास्यैतां रात्रिं कुमाराश्चन पयसो लभन्ते। - आप.श्रौ.सू. १.११.१

*उदित आदित्ये पौर्णमास्यास्तन्त्रं प्रक्रमयति प्रागुदयादमावास्यायाः। - आप.श्रौ.सू. १.१५.१

*चतुर्होत्रा पौर्णमास्यां हवींष्यासादयेत्पञ्चहोत्रामावास्यायाम्। - आप.श्रौ.सू. २.११.५, तु. आप.श्रौ.सू. ४.८.७

उपरोक्त कथन में कहा जा रहा है कि पौर्णमास कृत्य चतुर्होता बनकर करना है जबकि अमावास्या कृत्य पञ्चहोता बनकर। महाभारत आश्वमेधिक पर्व के अनुसार चतुर्होता से तात्पर्य होता है करण/कारण, कर्म, कर्ता व मोक्ष से। अर्थात् कर्ता, कारण, कर्म आदि से आगे मोक्ष की स्थिति भी विद्यमान है। दर्शपूर्णमास याग चतुर्होता बनकर किया जाता है जबकि चातुर्मास पञ्चहोता बनकर। पञ्चहोताओं के रूप में प्राण, अपान, व्यान, उदान, समान, अथवा लोम, त्वक्, मांस, अस्थि, मज्जा का नाम आया है लेकिन इस कथन से कोई निष्कर्ष नहीं निकाला जा सकता। चातुर्मास के कृत्यों के आधार पर निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि अमावास्या का स्वरूप क्या होगा। चातुर्मास याग के चार मुख्य घटक होते हैं वैश्वदेव, वरुणप्रघास, साकमेध और शुनासीर। वैश्वदेव से तात्पर्य? वरुणप्रघास से तात्पर्य पापों के नाश से हो सकता है। साकमेध द्वारा मरुतों और इन्द्र में मैत्री स्थापित की जाती है। मरुत हमारे निचले स्तर के प्राण हो सकते हैं जबकि इन्द्र शान्त प्राण, मोक्ष की स्थिति। शुनासीर के दो घटक कहे गए हैं वृत्र के हनन से शुनं/शून्य स्थिति प्राप्त होती है। फिर सीर/श्री द्वारा उस शून्य स्थिति को निचले स्तरों पर अवतरित किया जाता है। सीर हल को कहते हैं। केवल कार्तिक अमावास्या या दीपावली को ही ऐसा होता है जहां गणेश और लक्ष्मी की अर्चना साथ-साथ की जाती है। यह शुनासीर का रूप हो सकता है।

*स्रुवेण पार्वणौ होमौ। - - -अमावास्या सुभगा सुशेवा धेनुरिव भूय आप्यायमाना। सा नो दोहतां सुवीर्यं रायस्पोषं सहस्रिणम्। अपानाय सुराधसे ऽमावास्यायै स्वाहेत्यमावास्यायाम्। - आप.श्रौ.सू. २.२०.५

*अग्नीषोमीयमेकादशकपालं पौर्णमास्यामनुनिर्वपत्यादित्यं घृते चरुं सारस्वतं चरुममावास्यायां पौष्णं चैन्द्रमेकादशकपालममावास्यायां पौर्णमास्यां च भ्रातृव्यवतो ऽभिचरतो वा। - आप.श्रौ.सू. ३.१५.६

*पौर्णमासीमेव यजेत भ्रातृव्यवान्नामावास्याम्। पितृयज्ञमेवामावास्यायां कुरुते। - - -अग्नीषोमीयानि प्रधानानि स्युरमावास्यायां पौर्णमास्यां च भ्रातृव्यवतो ऽभिचरतो वा। - आप.श्रौ.सू. ३.१६.६

     उपरोक्त कथन में भ्रातृव्यवान् के लिए केवल पौर्णमासी यजन का निर्देश है जो भ्रामक लगता है। समुचित व्याख्या अपेक्षित है।

*बर्हिषा पूर्णमासे व्रतमुपैति। वत्सेष्वपाकृतेष्वमावास्यायाम्। - आप.श्रौ.सू. ४.२.६

*अमावास्यां रात्रिं जागर्ति। अपि वा सुप्यादुपरि त्वेव न शयीत। अपि वोपरि शयीत ब्रह्मचारी त्वेव स्यात्। - आप.श्रौ.सू. ४.३.१३

*अग्नये रक्षोघ्ने पुरोडाशमष्टाकपालममावास्यायां निशायां निर्वपेत्तस्याः साद्गुण्यसामर्थ्यात्। अमावास्यायाः कालापनयः स्यात् । - आप.श्रौ.सू. १९.१८.१४

*तस्या(वैशाख्यां पौर्णमास्याः) योत्तरामावास्या तस्यामपदातीन्महर्त्विज आवहन्ति। - - आप.श्रौ.सू. २०.१.६

*एतस्य(अश्वमेधस्य) संवत्सरस्य योत्तरामावास्या तस्यामुखं संभरति। - आप.श्रौ.सू. २०.८.३

*अमावास्यायां प्रायणीयो ऽष्टम्यां महाव्रतं पौर्णमास्यामुदयनीयः। एतद्वा विपरीतम्। - आप.श्रौ.सू. २३.२.३

*पौर्णमास्यां गोष्टोमं बृहत्सामानमुपयन्ति। - - -अमावास्यायामायुष्टोमं रथंतरसामानमुपयन्ति। तस्मिन्संस्थिते सांनाय्येन यजन्ते। - आप.श्रौ.सू. २३.१२.२१

     उपरोक्त कथन में पौर्णमासी में बृहत्साम का तथा अमावास्या में रथन्तर साम का उल्लेख है।

*आग्नेयो ऽष्टाकपाल ऐन्द्राग्न एकादशकपालो द्वादशकपालो वामावास्यायामसोमयाजिनः। सांनाय्यं द्वितीयं सोमयाजिनः। - -नैन्द्राग्नः संनयतो वर्णविशेषेण। - आप.श्रौ.सू. २४.२.३४

*चन्द्रमा अमावास्यां रात्रिमादित्यं प्रविशत्यादित्योऽग्निम् जै.उ.ब्रा. १.११.१.६

*चन्द्रमा वा अमावास्यायामादित्यमनुप्रविशति ऐ.ब्रा. ८.२८

*तस्य ह वा एतस्य संवत्सरस्य साम्नोऽहोरात्राणि हिंकारोऽर्धमासाः प्रस्तावो मासा आदिर्ऋतव उद्गीथः पौर्णमास्यः प्रतिहारोऽष्टका उपद्रवोऽमावास्या निधनम्। - षड्-विंश ब्रा. ३.४.२२

*तं(चन्द्रमसं) देवा दिव्येन पात्रेण आदित्याः प्रथमं पञ्चकलं पञ्चमीं भक्षयन्ति। अन्तरिक्षेण पात्रेण रुद्रा द्वितीयं पञ्चकलं दशमीं भक्षयन्ति। ते पृथिव्या पात्रेण वसवस्तृतीयं पञ्चकलं पञ्चदशीं भक्षयन्ति। षोडशी कलावशिष्यते। षोडशकलो वै चन्द्रमाः। स ओषधीश्च वनस्पतींश्च गाश्च पशूंश्चादित्यं च ब्रह्म च ब्राह्मणांश्चानुप्रविशति। तं देवा इन्द्रज्येष्ठाः सोमपाश्चासोमपाश्च यथा पितरं पितामहं प्रपितामहं वा वृद्धं प्रलयमुपगच्छमानं व्याधिगतं मरिष्यसीति वा तां रात्रिं वसन्ते। तदमावास्याया अमावास्यात्वम्। तस्मादमावास्यायां नाध्येतव्यं भवति षड्-विंश ब्रा. ५.६.२

*चन्द्रमा वै धाता। - - - -या पूर्वामावास्या सा सिनीवाली। योत्तरा सा कुहूः।  - - पुष्ये चानुमतिर्ज्ञेया सिनीवाली तु द्वापरे। खार्वायां तु भवेद्राका कृतपर्वे कुहूर्भवेत्। - - -यस्मिन् दृश्येत सा सिनीवाली। - - -चन्द्रस्तु कुहूर्न दृश्येत। - षड्-विंश ब्रा. ५.६.४

पुष्ये कलियुगे, खार्वायां त्रेतायां सायण भाष्य। अमावास्या को वैखरी वाणी के प्रकट होने के तथ्य को कुहू/कोकिल वाणी कह सकते हैं। तैत्तिरीय संहिता ३.५.१.४ में सरस्वती को अमावास्या कहा गया है।

*देवानां वा एते सदोहविर्धाने यत् पौर्णमासी चामावास्या च - - - - उभे पुण्याहे उभे यज्ञिये मै.सं. १.६.९

उपरोक्त कथन यज्ञ हेतु अग्नि-आधान काल से सम्बन्धित है। सोमयाग में हविर्धान मण्डप में दो शकटों को बराबर-बराबर स्थापित किया जाता है जिसमें बडी शकट यज्ञ की उत्तरवेदी की पृष्ठ रेखा के दक्षिण में और छोटी शकट पृष्ठ रेखा के उत्तर में स्थापित की जाती है। बडी शकट को अध्वर्यु और छोटी शकट को प्रतिप्रस्थाता स्थापित करता है। इन शकटों के ऊपर कलशों में सोमरस भरा रहता है और प्रतिदिन के यज्ञकार्य में इन कलशों से भी सोम का ग्रहण किया जाता है। प्रतिप्रस्थाता ऋत्विज प्रकृति से सम्बन्धित होता है। अतः अनुमान है कि उसकी शकट को अमावास्या कहा गया है। मैत्रायणी संहिता के कथन से यह स्पष्ट नहीं है कि सदोमण्डप व हविर्धानमण्डप को पौर्णमासी व अमावास्या कहा जा रहा है या हविर्धान मण्डप में स्थित दो शकटों को।

*प्रजापतेर्वा एतौ स्तनौ यत्पौर्णमासी चामावास्या च। - मै.सं. १.६.९

*पौर्णमासं प्रथमायै तन्त्रं भवत्यामावास्यं द्वितीयायै कौ.ब्रा. १.१

     उपरोक्त कथन के पूर्वापर संदर्भ से ऐसा प्रतीत होता है कि अग्नि के दो रूप हैं शान्त तनु (देवों और मनुष्यों के लिए) तथा घोर रूप। हो सकता है घोर रूप अमावास्या के लिए हो।

*अग्न्याधान काल ये वैषाऽऽषाढ्या उपरिष्टादमावास्या भवति तस्यां पुनरादधीत सा पुनर्वसुभ्यां संपद्यत उपाप्तोऽमावास्यायां कामो भवति कौ.ब्रा. १.३

*पुरस्तादमावास्यायां चन्द्रमसं यदुपवसति तेन पूर्वां प्रीणाति यद्यजते तेनोत्तराम् उत्तरामुपवसेदुत्तरामु ह वै समुद्रो विजते सोममनुदैवतम् एतद्वै देवसत्यं यच्चन्द्रमाः तस्मादुत्तरामुपवसेत्। - कौ.ब्रा. ३.१

     पूर्णिमा व अमावास्या के पहले दिन सायंकाल उपवसथ(यजन करने के लिए कृतसंकल्प होना, बौद्ध सम्प्रदाय में उपोस्था) किया जाता है। प्रश्न यह है कि उपवसथ अमावास्या से पहले दिन किया जाना चाहिए या अमावास्या के दिन। उत्तर दिया गया है कि  उत्तर दिन में ही उपवसथ किया जाना चाहिए क्योंकि इस दिन समुद्र अपने देवता को देखकर प्रफुल्लित(ज्वारयुक्त) होता है।

*अथ यत्पौर्णमास्यां वार्त्रघ्नावाज्यभागौ भवतः पौर्णमासेन वा इन्द्रो वृत्रमहन्नथ यदमावास्यायां वृधन्वन्तौ क्षयं वा अत्र चन्द्रो गच्छति तमेवैतदाप्याययति तं वर्धयति कौ.ब्रा. ३.५

*यदमावास्यायामिन्द्राग्नी यजति प्रतिष्ठे वा इन्द्राग्नी प्रतिष्ठित्या एवाथ यत्सन्नयन्नमावास्यायामिन्द्रं यजत्येतज्ज्योतिर्वा अमावास्या न ह्यत्र चन्द्रो दृश्यतेऽथ यदसन्नयत्पुरोळाशान्तरेण उपांश्वायजत्यजामिताया अथ यत्संनयन्सांनाय्यस्यान्तरेण उपांश्वाज्यस्य यजति तस्योक्तं ब्राह्मणम् कौ.ब्रा. ३.६

*अथ यदमावास्यायामुपवसथ ऐन्द्राग्नं द्वादशकपालं पुरोळाशं निर्वपत्यैन्द्राग्नं वै सामतस्तृतीयसवनं तत्तृतीयसवनमाप्नोति कौ.ब्रा. ४.४

अमावास्या को इन्द्राग्नि देवता की प्रतिष्ठा होती है। जैसा कि इन्द्राग्नि शब्द की टिप्पणी में कहा गया है, सोमयाग के तृतीय सवन में विश्वेदेवों की प्रतिष्ठा होती है. विश्वेदेव ही विकसित होकर इन्द्राग्नि का रूप ग्रहण कर सकते हैं। कहा गया है कि यदि अग्नि इतनी प्रबल हो जाए कि वह(हिरण्यय कोश के?) जल में छिपे हुए इन्द्र को खोजने के लिए जल में प्रवेश करने में समर्थ हो जाए, तो तृतीयसवन में विश्वेदेवों का स्थान इन्द्राग्नि ले लेते हैं। तृतीयसवन में ऋजीष का उपयोग देवों हेतु सोम की प्राप्ति के लिए किया जाता है। ऋजीष सोमलता के उस भाग को कहते हैं जिसमें से पहले दो सवनों में सारा सोम निचोड लिया गया होता है। ऋजीष में पयः आदि मिलाकर उसका पुनः आप्यायन कर लिया जाता है। यही प्रकृति अमावास्या की है।

*फाल्गुनी अमावास्या को प्रयुक्त होने वाला वसिष्ठयज्ञ -- ब्रह्म वै पौर्णमासी क्षत्त्रममावास्या कौ.ब्रा. ४.८

पूर्णिमा व अमावास्या में क्या अन्तर हो सकता है, इस संदर्भ में उपरोक्त कथन महत्त्वपूर्ण है। पौर्णमासी द्वारा ब्राह्मणत्व को प्राप्त करना है। पुराणों में ब्राह्मणत्व के लक्षण प्रेम, मैत्री, कृपा, उपेक्षा आदि कहे गए हैं, भक्ति मार्ग। क्षत्र द्वारा अपने शत्रुओं को, पापों को नष्ट करना है, अपने कर्मों में दक्षता लानी है जिससे कर्म करने पर पापफल न बनें। राजसूय याग आदि में क्षत्रिय यजमान का अभिषेक किया जाता है। अभिषेक का तात्पर्य यह हो सकता है कि हमारी सारी प्रजाएं, हमारे विचार, हमारी वासनाएं आदि हमारे लिए भिषक् रूप हों, हमें लाभ पहुंचाने वाली हो, हमारा उनके ऊपर आधिपत्य हो, वे हमारे ऊपर आधिपत्य न जमाएं। वरुण को क्षत्रिय देवता कहा जाता है। वरुण सत्यानृत-विवेक का स्वामी है। ब्राह्मण का जन्म ब्रह्मा के मुख से और क्षत्रिय का वक्ष/बाहु से हुआ है।

*तैषस्यामावास्याया एकाह उपरिष्टाद्दीक्षेरन्माघस्य वैत्याहुस्तदुभयं व्युदितं तैषस्य त्वेवोदिततरमिव कौ.ब्रा. १९.२

तैष पौष

*स वै माघस्यामावास्यायामुपवसत्युदङ्ङावर्त्स्यन्नुपेमे वसन्ति प्रायणीयेनातिरात्रेण यक्ष्यमाणास्तदेनं प्रथममाप्नुवन्ति कौ.ब्रा. १९.३

*यदैन्द्राग्नम्(हविः) अमावास्यायां तमाग्नेयँँ श्वो भूते पशुमालभन्त मै.सं. ३.६.१०

*अग्नीषोमीय एव पौर्णमासं हविः, सान्नाय्यमामावास्यम् मा.श. १.६.२.६

*ते देवा अब्रुवन्। अमा(सह) वै नोऽद्य वसुर् (चन्द्रमाः) वसति यो नः प्रावात्सीदिति। - मा.श. १.६.४.३

पुराणों में अमावास्या तिथि की उत्पत्ति के पीछे अमावसु पितर की कथा दी गई है। शतपथ ब्राह्मण का उपरोक्त कथन अमावसु पितर का मूल रूप है।

*स यत्रैष (चन्द्रमाः) एता रात्रिं न पुरस्तान्न पश्चाद्ददृशे तदिमं लोकमागच्छति स इहैवापश्चौषधीश्च प्रविशति स वै देवानां वस्वन्न ह्येषां तद्यदेव एता रात्रिमिहाऽमा वसति तस्मादमावास्या नाम मा.श. १.६.४.५

पुराणों में अमावास्या तिथि की उत्पत्ति के पीछे अमावसु पितर की कथा दी गई है। शतपथ ब्राह्मण का उपरोक्त कथन अमावसु पितर का मूल रूप है।

*अथैतदेव वृत्रहत्यं यदामावास्यं(हविः) वृत्र ह्यस्मा ऽ एतज्जघ्नुषऽ आप्यायनमकुर्वन् मा.श. १.६.४.१२

*ऐन्द्राग्न ह्यामावास्य हविर्भवति। - मा.श. १.८.३.४

*आमावास्यं वै सान्नाय्यम् मा.श. २.४.४.१५

*सान्नाय्यभाजना वाऽमावास्या मा.श. २.४.४.२०

दर्शपूर्णमास में दधि हेतु सायंकाल दुहा गया पयः सान्नाय्य कहलाता है। सान्नाय्य हवि केवल सोमयाजियों के लिए है। असोमयाजियों के लिए ऐन्द्राग्न पुराडाश होता है। - श्रौतयज्ञप्रक्रिया-पदार्थानुक्रमकोषः

*एतद्वै यैव प्रथमा पौर्णमासी तस्यां पशुमालभते। या प्रथमाऽष्टका तस्यामुखां सम्भरति। या प्रथमाऽमावास्या तस्यां दीक्षते। - मा.श. ६.२.२.३०

          प्रथमा अमावास्या फाल्गुनी अमावास्या। ब्रह्माण्ड पुराण १.२.१०.५५ का कथन है कि द्विज उग्र नाम से दीक्षित होता है। अमावास्या को सूर्य और चन्द्रमा एक साथ आ जाते हैं। जब तक सूर्य एकाकी चरता है, वह रुद्र कहलाता है। चन्द्रमा के साथ आ जाने से उसकी रौद्रता समाप्त हो जाती है। वह अपनी रश्मियों द्वारा चन्द्रमा के सोम का पान करता रहता है।

*संवत्सरो वै यज्ञः प्रजापतिः। तस्यैतद्द्वारम्। यदमावास्या। चंद्रमा एव द्वारपिधानः। स् योऽमावास्यायामग्नी आधत्ते। यथा विवृतायां द्वारि द्वारा पुरं प्रपद्येत। स तत एव स्वर्गं लोकमियात्। - - अथ यो नक्षत्र आधत्ते। यथा पिहितायां द्वारि। अद्वारा पुरं प्रपित्सेत्। - मा.श. ११.१.१.१

*या असौ वैशाखस्यामावास्या तस्यामादधीत। सा रोहिण्या संपद्यते। - - - -अमावास्या वा अग्न्याधेयरूपम्। तस्मादमावास्यायामेव अग्नी आदधीत। पौर्णमास्यामन्वारभेत। अमावास्यायां दीक्षेत। - मा.श. ११.१.१.७

*अथ यत् आमावास्येनेष्ट्वा अदित्यै चरुमनु निर्वपति। एष वै सोमो राजा देवानामन्नम्। यच्चन्द्रमाः, स यत्रैष एतां रात्रिं न पुरस्तान्न पश्चाद्ददृशे। तेनैतदनद्धेव हविर्भवति। तेनाप्रतिष्ठितम्। इयं वै पृथिव्यदितिः। सेयमद्धा। सेयं प्रतिष्ठिता। एतेनो हास्यैतद्धेव हविर्भवति। एतेन प्रतिष्ठितं। - मा.श. ११.१.३.३

अद्धा प्रत्यक्षतया साक्षिरूपा सायण भाष्य

 

*तदाहुर्विवृत्तेऽश्वस्येष्टिं निर्वपंतीति। एष वै सोमो राजा देवानामन्नम् यच्चन्द्रमाः। स यत्रैष एतां रात्रिं न पुरस्तान्न पश्चाद्ददृशे। तदिमं लोकमागच्छति। सोऽस्मिँल्लोके विवर्तते। स यदामावास्येन यजते। विवृत्त एवास्यैतदिष्टिं निर्वपति। अथ यत् पौर्णमासेन यजते, अश्वमेधमेवैतदालभते तमालभ्य देवेभ्यः प्रयच्छति। - मा.श. ११.२.५.४

     उपरोक्त कथन में कहा जा रहा है कि अमावास्या को अश्व रूपी चन्द्रमा इस लोक में आकर विवर्तन करता है। ऐसा प्रतीत होता है कि विवर्तन से तात्पर्य है कि उसका आभास मात्र होता है। अश्व का अर्थ है अक्ष से, द्यूत से विपरीत स्थिति। इस लोक में सारी घटनाएं आकस्मिक हैं, चांस हैं, इससे विपरीत स्थिति का आभास मात्र।

 

*पितृमेधः एकनक्षत्रं हि पितॄणाम्। अमावास्यायाम्। अमावास्या वा एकनक्षत्रं। एको हि। यत् उ एतां रात्रिं सर्वाणि भूतानि संवसन्ति। तेन उ तं काममाप्नोति। यः सर्वेषु नक्षत्रेषु। - मा.श. १३.८.१.३

*एतदु पौर्णमासेन चेष्ट्वाऽऽमावास्येन च यावती सौम्येनाध्वरेण जितिं जयति तावतीं जयति, तन्महायज्ञो भवति का.श. १.३.४.८

*एष वा अश्वो मेध्यो यच्चन्द्रमास्तमेतदश्वं मेध्यमालभते यत्पौर्णमासेन यजते स एष आलब्ध एत्यामावास्यायाः - - -  । अथ यदामावास्येन यजते चन्द्रमा आदित्यं प्रविशत्यादित्यो ऽस्तंयन्नग्निं प्रविशति तस्यैता रात्रिमग्नयः सार्ध संवसन्ति सो ऽस्यैषो अश्वो मेध्य एता रात्रिमग्निषु विवर्तते यत्र वा अश्वो मेध्यो विवर्तत इष्ट्या तत्र यजन्ते। स यत्प्रातरामावास्येन यजते विवर्तन एवास्य तद्यजते। - का.श. ३.१.८.३

          शांखायन ब्राह्मण ४.८ में कहा गया है कि ब्रह्म पौर्णमासी है, क्षत्र अमावास्या है। काण्व शतपथ के उपरोक्त कथन में कहा जा रहा है कि पौर्णमासी अश्वमेध है। यहां यह अन्तर्निहित है कि अमावास्या राजसूय हो सकता है जिसमें अक्षक्रीडा की, आकस्मिकता या चांस की प्रधानता होती है।

*अथाशुक्रः परिशिष्यते। तस्यैषा प्रायश्चित्तिः। अमावास्यां रात्रिम् अग्निम् उपसमाधाय परिस्तीर्य परिषिच्यैते आहुती जुहुयात् - - - जै.ब्रा. १.३६२

*यद्दधि तेनाऽऽमावास्यम् जै.ब्रा. २.३८

*- - - तस्याम् अमावास्यायां दीक्षोपरिष्टात् सुत्या। - जै.ब्रा. २.९८

*- - - द्वादश वै संवत्सरस्यामावास्याः। अमावास्यानाम् एवैषा संमामावास्यानाम् ऋद्धिः। - जै.ब्रा. २.३६४

*गवामयनम् यैवासौ फाल्गुनस्यामावास्या तस्या उपरिष्टात् पञ्चाह-षडहे दीक्षेरन्। - जै.ब्रा. २.३७३

*तस्य(संवत्सरस्य) एते प्राणापाना यत् पौर्णमास्यश्चामावास्याश्च। - - - प्राणभाजना वै पौर्णमास्य्, अपानभाजनाऽमावास्या। बहिर् वै सन्तं प्राणम् उपजीवन्त्य्, अन्तस् सन्तम् अपानम् इति जै.ब्रा. २.३९४

*तद् यत् पौर्णमासीश् चामावास्याश् चोत्सृजन्ते, ऽङ्गान्य् एवास्य तत् प्राणान् पर्वाणि प्रसारयन्ति, नेन् नस् संवत्सरश् शुशुचानो हिनसद् इति। - जै.ब्रा. २.३९६

*- - - तद् यत् पौर्णमासी चामावास्यां चोत्सृजेरन् संवत्सरं मेधेन व्यर्धयेयुः। - जै.ब्रा. २.३९७

*द्वादश वै संवत्सरस्य पौर्णमासीर् द्वादशाष्टका द्वादशामावास्याः। तद् एवैतेन षट्त्रिंशेन स्तोमेन पर्वशस् संवत्सरम् आरभन्ते। - जै.ब्रा. २.४३७

*पुरो इन्द्राय देवा श्रैष्ठ्याय नातिष्ठन्त। स प्रजापतिम् उपाधावत् प्र म इमा यच्छेति। तस्मा एते द्वे प्रायच्छत् पौर्णमासीं चामावास्यां च। अस्मिन्न् एवाष्टकाम् अधत्त। ततो वा इन्द्राय देवा श्रैष्ठ्यायातिष्ठन्त। - जै.ब्रा. ३.३

*एका कलोदशिष्यत(चन्द्रमसः) तां प्रजापतिः सिनीवाल्या अददात् तयेह पशुषु वनस्पतिष्वोषधीषु चामावसद्यदमावसत् तदमावस्याया अमावस्यात्वम् काठ.संकलन २३:६

*इन्द्राग्न्योर्वा एतद् भागधेयं यदमावस्या काठ.सं. ७.५

*ते देवा अब्रुवन्नमा वै नो वस्वभूदिति सामावस्या काठ.सं. ७.१०, कपिष्ठल कठ सं. ५.९

*आयुषे(श्रोत्राय[काठ.] कममाव(वा[मै.]स्येज्यते मै.सं. १.९.५, काठ.सं. ९.१३

*अमावस्यां रात्रीं निशि यजेतामावस्यां वै रात्रीं निशि रक्षासि प्रेरते, पूर्णान्येवैनान्यपवपति, परिश्रिते यजेत रक्षसामन्तर्हित्यै वामदेवस्यैतत् पञ्चदशं राक्षोघ्नम् काठ.सं. १०.५

*अग्नये पथिकृतेऽष्टाकपालं निर्वपेद्यस्य पौर्णमासी वामावस्या वातिपद्येत काठ.सं. १०.५

*तं(चन्द्रमसं प्रजापतिः) वैश्वदेवेन चरुणामावस्यां रात्रीमयाजयत् तेनैनं यक्ष्मादमुञ्चत् काठ.सं. ११.३

*वैश्वदेवेन चरुणामावस्यां रात्रीं यजेत यो राजयक्ष्माद् बिभीयाद्यक्ष्मादेवैनं मुञ्चति, सोऽमुमेवाप्यायमानम्(चन्द्रमसम्) अन्वाप्यायते काठ.सं. ११.३

*यच्चन्द्रमा अमावस्याया अधि प्रजायते तन्मिथुनम् काठ.सं. १२.८

*वत्सैरमावस्यायाम्(व्रतमुपयन्ति) काठ.सं. ३१.१५

* यत्र सोमकला ग्रस्ता क्षणं सूर्येण षोडशी। मुखाद्वितस्तिमात्रं स्यात्तत्र बद्धपदो भव॥ नूनं सूर्यपदं प्राप्तो यत्र सोमो हृदम्बरे। नूनं केवलया स्थित्या तत्र बद्धपदो भव॥ - योगवासिष्ठ ६.१.११५-११६

     यत्र मुखाद्बहिर्देशे सूर्येणाग्रस्ता ध्रुवाख्या सोमस्यापानस्य षोडशी कला प्राणेनोद्गीर्णाभि कलाभिः पूर्यमाणा क्षणं प्राच्यां पूर्णमासी चन्द्र इव वितस्तिमात्रं स्यात्तत्र भुशुण्डोपाख्यानोक्तबाह्यकुम्भकेन मनोधारणया बद्धपदः स्थिरो भवेत्यर्थः॥११५॥ तथा यत्र हृदम्बरे कलाग्रासेन क्रमाद् ग्रस्यमानोऽपानाख्यः सोमो ऽमावास्यायामिव केवलया शुद्धचिद्रूप ध्रुवाख्यकलात्मिकया स्थित्वा तिष्ठति तत्रान्तः कुम्भकेन बद्धपदो भव॥११६॥ - आनन्दबोधसरस्वती कृत तात्पर्यप्रकाश व्याख्या

*इडापिङ्गलयोः संधिं यदा प्राणः समागतः। अमावास्या तदा प्रोक्ता देहे देहभृतां वर। - जाबालदर्शनोपनिषत् ४.४३

*स एष संवत्सरः प्रजापतिः षोडशकलस्तस्य रात्रय एव पञ्चदश कला ध्रुवैवास्य षोडशी कला स रात्रिभिरेवा च पूर्यतेऽप च क्षीयते सोऽमावास्याँँ रात्रिमेतया षोडश्या कलया सर्वमिदं प्राणभृदनुप्रविश्य ततः प्रातर्जायते तस्मादेताँँ रात्रिं प्राणभृतः प्राणं न विच्छिन्द्यादपि कृकलासस्यैतस्या एव देवताया अपचित्यै। यो वै स संवत्सरः प्रजापतिः षोडशकलोऽयमेव स योऽयमेवंवित्पुरुषस्तस्य वित्तमेव पञ्चदश कला आत्मैवास्य षोडशी कला स वित्तेनैवा च पूर्यतेऽप च क्षीयते -  बृहदारण्यक उपनिषत् १.५.१४

*यदु किंचेमाः प्रजाः शोचन्त्यमैवासां तद्भवति पुण्यमेवामुं गच्छति - - - बृ.उ. १.५.२०

*- - -तदेव शाम्भवीलक्षणम्। तद्दर्शने तिस्रो मूर्तयः अमा प्रतिपत् पूर्णिमा चेति। निमीलितदर्शनममादृष्टिः। अर्धोन्मीलितं प्रतिपत्। सर्वोन्मीलितं पूर्णिमा भवति। - मण्डलब्राह्मणोपनिषत् २.१.६

     निमीलित से तात्पर्य उस नीली ज्योति से हो सकता है जिससे कोई किरण बाहर नहीं निकलती। पुराणों में कथा आती है कि राजा इन्द्रद्युम्न का पुरोहित जब उत्कल क्षेत्र में देवदर्शन करने गया तो शबर ने उसको गुफा के अन्दर नीली ज्योति के रूप में दर्शन कराए। पापों का नाश होने पर ही नीली ज्योति दिखाई देने की आशा है।

*अमृतं प्राणे जुहोम्यमा शिष्यान्तोऽसि प्राणाग्निहोत्रोपनिषत् १.६

*कन्यागते यदा सूर्ये तिष्ठन्ति पितरो गृहे॥ दिने दिने गयातुल्यं भरण्यां गयपञ्चके। दशतुल्यं व्यतीपाते पक्षमध्ये तु विंशतिः॥ द्वादश्यां शतमित्याहुरमावास्यां सहस्रकम्। आश्वयुक्शुक्लपक्षस्य द्वितीयामयुतं फलम्॥ - इतिहासोपनिषत् १९.३

*ओमीं ब्रह्मविद्याममावास्यायां पौर्णमास्यायां पुरोवाच सचरति सचरति तत्कारी मत्कारी विषनाशिनी - - - गारुडोपनिषत् १२

*य इमां ब्रह्मविद्याममावास्यायां पठेच्छृणुयाद्वा यावज्जीवं न हिंसन्ति सर्पाः। - गारुडोपनिषत् २५

*अथाहिताग्निर्म्रियेत प्रेतस्य मन्त्रैः संस्कारोपतिष्ठते। स्वस्थो वाश्रमपारं गच्छेयमिति। एतान्पितृमेधिकानोषधिसंभारान्संभृत्यारण्ये गत्वाऽमावास्यायां प्रातरेवाग्नीनुपसमाधाय पितृभ्यः श्राद्धतर्पणं कृत्वा ब्रह्मेष्टिं निर्वपेत्। - संन्यासोपनिषत् १५:३

*यदेकधनमभिध्यायात्पौर्णमास्यां वाऽमावास्यायां वा शुद्धपक्षे वा पुण्ये नक्षत्रऽग्निमुपसमाधाय परिसमुह्य परिस्तीर्य पर्युक्ष्योत्पूय दक्षिणं जान्वाच्य स्रुवेण वा चमसेन वा कंसेन वैता आज्याहुतीर्जुहोति वाङ्नाम देवताऽवरोधिनी - - - - - -कौषीतकिब्राह्मणोपनिषत् २.३

*अथ मासि मास्यमावास्यायां पश्चाच्चन्द्रमसं दृश्यमानमुपतिष्ठेतैतयैवावृता हरिततृणाभ्यां वाक्प्रत्यस्यति यत्ते सुसीमं हृदयमधि चन्द्रमसि श्रितं तेनामृतत्वस्येशाने माऽहं पौत्रमघं रुदमिति - - - कौषीतकिब्राह्मणोपनिषत् २.८

*इयमेव साऽग्निरमस्तत्साम। - - अन्तरिक्षमेव सा वायुरमस्तत्साम। - - द्यौरेव सादित्योऽमस्तत्साम। - - - नक्षत्राण्येव सा चन्द्रमा अमस्तत्साम। - - -अथ यदेवैतदादित्यस्य शुक्लं भाः सैव साऽथ यन्नीलं परः कृष्णं तदमस्तत्साम छान्दोग्योपनिषत् १.६.१

     वैदिक निघण्टु में अमा का परिगणन गृह नामों के अन्तर्गत किया गया है जबकि अमः का पद नामों में। अमा और अमः में क्या अन्तर है, यह अन्वेषणीय है।

*वागेव सा प्राणोऽमस्तत्साम। - - -चक्षुरेव साऽऽत्माऽमस्तत्साम। - - -श्रोत्रमेव सा मनोऽमस्तत्साम। - - -अथ यदेवैतदक्ष्णः शुक्लं भाः सैव साऽथ यन्नीलं परः कृष्णं तदमस्तत्साम। - छां.उ. १.७.१

*अथ यदि महज्जिगिषेदमावास्यायां दीक्षित्वा पौर्णमास्याँँ रात्रौ सर्वौषधस्य मन्थं दधिमधुनोरुपमथ्य ज्येष्ठाय श्रेष्ठाय स्वाहेत्यग्नावाज्यस्य हुत्वा मन्थे संपातमवनयेत्। - छान्दोग्योपनिषत् ५.२.४

*अथ प्रतिसृप्याञ्जलौ मन्थमाधाय जपत्यमो नामास्यमा हि ते सर्वमिदँँ स हि ज्येष्ठः श्रेष्ठो राजाऽधिपतिः - - छां.उ. ५.२.६

*शक्तिः ब्रह्मरन्ध्रस्थानं तुटिः इति प्रक्षीणचन्द्रा पञ्चदशी। एतएव अमाख्यायां षोडश्यां तुटौ वसनात् तद्भित्त्यवलम्बनादमावस्या सा ज्ञेया स्वच्छन्दोद्योत, पटल ८, पृ. २१४

     कृष्णपक्ष में ऊर्ध्वचार द्वारा प्रति तुटि एक-एक कला का अमावास्या पर्यन्त क्षय होता है। प्राण के शक्ति या ब्रह्मरन्ध्र स्थान में पहुंचने पर प्रक्षीण चन्द्रा पञ्चदशी तिथि अमा नामक सोलहवीं अमृतकला में निवास करती है। अतः उसे अमावास्या कहा जाता है। शुक्लपक्ष में क्रमशः अपान चन्द्र की एक-एक कला का पोषण होता है(माः चन्द्रः पूर्णोऽस्यामिति कृत्वा स्वच्छन्दोद्योत, पटल ७, पृ. २२०)। यहां पञ्चदशी तुटि ही पौर्णमासी तिथि है, क्योंकि इस तुटि में माः अर्थात् चन्द्र पूर्ण होता है। - - - विसर्ग ही अमृताषोडशीकला है जिससे प्रवाह व्यापार चलता है। - मन्त्र और मातृकाओं का रहस्य, पृ. १७६

 

दर्शपूर्णमास इष्टि प्रयोग (डा. रमेश चन्द्र दाश शर्मा)