Site hosted by Angelfire.com: Build your free website today!

पुराण विषय अनुक्रमणिका

PURAANIC SUBJECT INDEX

(Anapatya to aahlaada only)

by

Radha Gupta, Suman Agarwal, Vipin Kumar

Home Page

Anapatya - Antahpraak (Anamitra, Anaranya, Anala, Anasuuyaa, Anirudhdha, Anil, Anu, Anumati, Anuvinda, Anuhraada etc.)

Anta - Aparnaa ((Antariksha, Antardhaana, Antarvedi, Andhaka, Andhakaara, Anna, Annapoornaa, Anvaahaaryapachana, Aparaajitaa, Aparnaa  etc.)

Apashakuna - Abhaya  (Apashakuna, Apaana, apaamaarga, Apuupa, Apsaraa, Abhaya etc.)

Abhayaa - Amaavaasyaa (Abhayaa, Abhichaara, Abhijit, Abhimanyu, Abhimaana, Abhisheka, Amara, Amarakantaka, Amaavasu, Amaavaasyaa etc.)

Amita - Ambu (Amitaabha, Amitrajit, Amrita, Amritaa, Ambara, Ambareesha,  Ambashtha, Ambaa, Ambaalikaa, Ambikaa, Ambu etc.)

Ambha - Arishta ( Word like Ayana, Ayas/stone, Ayodhaya, Ayomukhi, Arajaa, Arani, Aranya/wild/jungle, Arishta etc.)

Arishta - Arghya  (Arishtanemi, Arishtaa, Aruna, Arunaachala, Arundhati, Arka, Argha, Arghya etc.)           

Arghya - Alakshmi  (Archanaa, Arjuna, Artha, Ardhanaareeshwar, Arbuda, Aryamaa, Alakaa, Alakshmi etc.)

Alakshmi - Avara (Alakshmi, Alamkara, Alambushaa, Alarka, Avataara/incarnation, Avantikaa, Avabhritha etc.)  

Avasphurja - Ashoucha  (Avi, Avijnaata, Avidyaa, Avimukta, Aveekshita, Avyakta, Ashuunyashayana, Ashoka etc.)

Ashoucha - Ashva (Ashma/stone, Ashmaka, Ashru/tears, Ashva/horse etc.)

Ashvakraantaa - Ashvamedha (Ashwatara, Ashvattha/Pepal, Ashvatthaamaa, Ashvapati, Ashvamedha etc.)

Ashvamedha - Ashvinau  (Ashvamedha, Ashvashiraa, Ashvinau etc.)

Ashvinau - Asi  (Ashvinau, Ashtaka, Ashtakaa, Ashtami, Ashtaavakra, Asi/sword etc.)

Asi - Astra (Asi/sword, Asikni, Asita, Asura/demon, Asuuyaa, Asta/sunset, Astra/weapon etc.)

Astra - Ahoraatra  (Astra/weapon, Aha/day, Ahamkara, Ahalyaa, Ahimsaa/nonviolence, Ahirbudhnya etc.)  

Aa - Aajyapa  (Aakaasha/sky, Aakashaganga/milky way, Aakaashashayana, Aakuuti, Aagneedhra, Aangirasa, Aachaara, Aachamana, Aajya etc.) 

Aataruusha - Aaditya (Aadi, Aatma/Aatmaa/soul, Aatreya,  Aaditya/sun etc.) 

Aaditya - Aapuurana (Aaditya, Aanakadundubhi, Aananda, Aanarta, Aantra/intestine, Aapastamba etc.)

Aapah - Aayurveda (Aapah/water, Aama, Aamalaka, Aayu, Aayurveda, Aayudha/weapon etc.)

Aayurveda - Aavarta  (Aayurveda, Aaranyaka, Aarama, Aaruni, Aarogya, Aardra, Aaryaa, Aarsha, Aarshtishena, Aavarana/cover, Aavarta etc.)

Aavasathya - Aahavaneeya (Aavasathya, Aavaha, Aashaa, Aashcharya/wonder, Aashvin, Aashadha, Aasana, Aasteeka, Aahavaneeya etc.)

Aahavaneeya - Aahlaada (Aahavaneeya, Aahuka, Aahuti, Aahlaada etc. )

 

 

Before going to the philosophy of cereals as propounded in vedic literature, let us  see the philosophy of cereals in daily life. Why do we need to take food at all? This can be answered in the way that a creature thinks that he is all alone in the world, while the reality is that he is a part of the whole, the collectivity. To fulfill the needs of the whole inside himself, a creature has to take food from outside. When he is taking food, he is supporting the whole universe inside himself.

          All creatures take their food as prescribed by nature for them. But a man has to think about the quality of his food. According to modern sciences, one must have a balance of proteins, carbohydrates, fats and vitamins in his food. The question is – is this prescription is o.k. with spirituality also? In spirituality, there is a neglecting attitude towards proteins. So much that even pulses have been prohibited. This can be explained as follows : Proteins are made up of  elements carbon, hydrogen, nitrogen and oxygen, while carbohydrates are made up of carbon, hydrogen and oxygen . Thus there is an excess element nitrogen in proteins which is connected with gross element earth. Therefore, if one takes excess intake of protein, he is connecting himself with earth. On the other hand, carbohydrates are connected more with gross element sky, airy nature. In spirituality, one has to transcend the earth and reach the heaven.

          The other problem about food in spirituality is decreasing the total quantity of intake of food, just sufficient for living. This can be done only if the intensity of fire inside the stomach can be lessened. There is a guess that if the essence of food like semen is preserved, this lessens the intensity of fire in the stomach. The other method which the mankind has developed over time is to mix the food with saliva of the mouth. For this purpose, efforts are made to take food in dry form so that maximum saliva can be mixed with it.

          Animals can get their necessary food from grass etc., but not man. Modern sciences teach us that there are certain enzymes in the saliva of animals which find out the food hidden between the fibers of grass and then convert it into useful food. The vedic literature answers this question in the way that a sun develops inside us. The more this sun gets developed, the more food will it be able to find out. According to one upanishada, there is a prime inward entity for whom this gross atman is food. When this prime entity gets developed, the gross matter which was tasteless earlier, becomes tasty. In daily life also, we see that when we are hungry, the fire inside the stomach is kindled, even tasteless things become tasty. What is the difficulty in development of this sun inside? According to one sacred text, the situation regarding collection of fine food from the universe before and after being sinless is different. If the sun inside is attached with sins, it will generate poison in the food. This is an open question as yet how the sweet and bitter food is produced on this earth? Some say that God wants to keep the creatures alive, so he has provided them with sweet food also. Some say that those rays of sun which reach the earth after reflection from moon, they create sweet food, while those rays which reach direct, give rise to bitter food.

          There is a ritual called Mahaavrata in Somayaaga. The definition of vrata/fast has been given that on this day of fast, one has to do without gross food, he has to fetch his food directly from the universe. In Mahaavrata ritual or festival, this is done by singing the hymns of Saamaveda at higher level and by making his body a musical instrument at the gross level. The combination of both is necessary.

          Puraanic texts are full of the highness of qualities of donating cereals. But in vedic literature, one can donate a thing when he is able to produce that thing by his efficiency. The other name of efficiency is ‘seeing with a difference’. There is a hymn in Rigveda which says that one who sees with a difference, he is able to get food from God.

          There is a reference in a vedic mantra of a threefold food which can be obtained only by a twice – born Brahmin. What is this threefold food, different texts and people have tried to explain it. One sacred text says that agriculture/to plough the field, rain/watering and seeding are the threefold food which can be achieved only by a twice born, or a person free from sins. To plough a field means to plough our own self. For this an equivalent of plough is required. In vedic literature, an axle, an equipment which is able to concentrate energy forces just like a magnet, can work as a plough. Our own body is a good axle which continuously attracts energy from the universe. Our feet attract energy from the earth. But we are not able to feel it because our body is loaded with external food. In Vipashyana meditation, instructions are given to sharpen our consciousness which can move throughout the body, and then take this consciousness out from the bounds of the body. This is only possible when the praana and apaana get united, in other words, our praana has access to the root portion. It has been stated that there are 16 phases like hair, skin, blood, bones, marrow etc. which attract food for praana or life. The last one is the extract of food which can be attracted by Aahuti only. At another place, it is stated that the mandala/circumference of sun is the food and the man situated inside is the eater. There seem to be less statements how watering has to be done. Similarly, how sowing of seeds has be done, is a subject which has been referred less frequently. A question has been raised whether sowing of seeds has to be done on ploughed field of Aatman only, or on non – ploughed field or both. Regarding sowing, there is an interesting story in puraanas where king Kuru is trying to plough the field and then Indra interferes and asks where are the seeds to sow. The king answers that his body parts are the seeds. Indra cuts his body parts with his chakra.       

          Animals have been universally called as food for human being. For fire, herbs are the food, for air waters, for sun, moon is food. What is this food for humans in the form of animals, is not clear. It has been said that milk is Soma while cereals are wine. The extreme elevation of milk is in soma while that of wine in the finest food(which is a trio of curd, butter and honey in vedic literature). Animals are a vessel for preserving milk because they produce milk. Village animals are vessels of milk, while wild animals are vessels of wine.

          The food has been classified in two categories : village and wild. In a fast, it is forbidden to take cereals from outside. If it is at all necessary, one can consume wild cereals. But one shoud be clear what wild means in spirituality. There is one statement that wild is like vanishing of animals. Similar is the situation of lower praanas which get vanished. There is another statement which classified food into visible and nonvisible. The visible is finite one, therefore, one has to get control over both.

          Udumbara tree has been universally called as food. In somayaga, there is a place for sitting and singing by the priests. This is called Sadomandapa. In the middle of this, there is a post made of Udumbara wood. This sadomandapa is symbolic of stomach of the yaga. Stomach is used for storage of food. The property of Udumbara is that it keeps hunger under control. The opposite of it is the demonical stomach.

          Vedic literature universally calls year/samvatsara as food. As stated for other words also, year should be taken to mean as a trio of sun, moon and earth which revolve around each other. In a similar manner, the trio of spirituality can be taken as some source of light in our body, our body and mind. The food is connected with 6 seasons of the year. These seasons receive their energy from the sun. Therfore, it can be said that the highest stage of an individual, his sun, gives power to lower self to produce his own food. The lower self is generally divided into 6 parts. The basis of division may be the decreasing entropy of life.

 

अन्न

टिप्पणी : पुराणों में अन्नदान की महिमा का बहुत अधिक वर्णन किया गया है । किसी वस्तु के दान से पूर्व उसके बारे में दक्षता उत्पन्न करना आवश्यक है, तभी हम दूसरों को देने में समर्थ हो सकते हैं । दक्षता उत्पन्न करने का दूसरा नाम विपश्यना है । ऋग्वेद १०.१२५.४ में कहा गया है कि जो विपश्यना करता है, जो प्राण लेता?, जो ईं अग्नि को सुनता है, वह परमात्मा से अन्न प्राप्त करता है । अन्न की विपश्यना के सम्बन्ध में पुराणों में कहा गया है कि वह हमारे अन्दर २५ तत्त्वों का पोषण करे । ऐसा अनुमान है कि अन्तरिक्ष की सभी ज्योतियां जैसे २७ नक्षत्र अन्न उत्पन्न करने में भागीदार बनते हैं । ओषधियां उन ज्योतियों को ग्रहण करके बीज रूपी अन्न उत्पन्न करती हैं । इस प्रकार ओषधियों की साधना से उत्पन्न अन्न को हम ग्रहण करके तृप्त होते हैं । क्या ऐसा हो सकता है कि हम पार्थिव ओषधियों पर निर्भर न करके स्वयं अपनी साधना से वह उषाएं ग्रहण कर अन्न निर्माण में समर्थ हो सकें ? वैदिक साहित्य में प्रतिपादित अन्न ऐसा ही प्रतीत होता है जिसे साधना द्वारा ही प्राप्त करना है । ऋग्वेद १.१४०.२ में उल्लेख है कि द्विजन्मा त्रिवृत् अन्न प्राप्त करता है । शतपथ ब्राह्मण ८.६.२.२ में कृषि, वृष्टि व बीज की त्रिवृत्~ अन्न के रूप में व्याख्या की गई है । शतपथ ब्राह्मण ७.२.२.७ का कथन है कि स्वयं का ही कर्षण करना है । इससे आत्मा में अन्न की प्राप्ति होती है । कृषि द्वारा अन्न की प्राप्ति बहुत महत्त्वपूर्ण हो जाती है । कर्षण के लिए हल/सीर की आवश्यकता होगी । अक्ष शब्द की टिप्पणी में यह स्पष्ट किया गया है कि हम अपनी देह के अंगों को ऐसे अक्षों का, रथ के चक्रों के धुरे का रूप दे सकते हैं जिसके एक सिरे पर ब्रह्माण्ड की ऊर्जा प्रवेश करती है और दूसरे सिरे से निकलती है, जैसा कि चुम्बक में होता है । ऐसा अक्ष कृषि के काम में आ सकता है । अपनी चेतना को ही हल बनाना पडता है । ऐसा भी कहा जा सकता है कि अनुकूल परिस्थितियां पाकर चेतना स्वयं हल बन जाती है । इसकी व्याख्या इस प्रकार कर सकते हैं कि मनुष्य की देह में उसके पद पृथिवी से लगातार ऊर्जा का कर्षण कर रहे हैं और उसे शीर्ष भाग तक पहुंचा रहे हैं । लेकिन दुर्भाग्यवश ऐसा हो गया है कि बाह्य अन्न के अविधिपूर्वक सेवन से यह प्रक्रिया बाधित हो जाती है । यदि हमारे शीर्ष के प्राणों का अपान के साथ या मूलाधार के साथ सम्बन्ध स्थापित हो जाए तो इस कर्षण का अनुभव होने लगता है । अनुभवी व्यक्ति अपने पदों द्वारा मीलों दूर से पृथिवी की तरंगें पकडने में समर्थ होते हैं, ऐसा कहा जाता है ।

          शतपथ ब्राह्मण १०.४.१.१७ में उल्लेख आता है कि प्राण के लिए १६ कलाएं अन्न का आहरण करती हैं - लोम, त्वक्, असृक्, मेद, मांस, स्नायु, अस्ति व मज्जा । इनमें से प्रत्येक में २ -२ कलाएं हैं । प्राण सप्तदश प्रजापति है । कहा गया है कि यज्ञ में १६ ऋत्विज १६ कलाओं के रूप होते हैं और आहुतियों द्वारा आहूत रस १७वां अन्न है । शतपथ ब्राह्मण १०.५.२.२८ का कथन है कि आदित्य के संदर्भ में मण्डल अन्न है और मण्डल में स्थित पुरुष अत्ता है । इसी प्रकार पुरुष के संदर्भ में शरीर अन्न है, दक्षिण अक्षि में स्थित पुरुष अत्ता है । यह सब संदर्भ संकेत करते हैं कि कर्षण का कार्य देह में किन - किन स्थानों से सम्पन्न होना है । कर्षण के पश्चात् वृष्टि व बीज वपन का कार्य सम्पन्न होना चाहिए । वैदिक साहित्य में उल्लेख आता है कि वृष्टि द्वारा अन्न उत्पन्न होता है, अतः वृष्टि अन्न है । अन्यत्र कहा गया है कि आपः द्वारा अन्न में रस का प्रवेश होता है । बीज वपन के संदर्भ वैदिक साहित्य में अपेक्षाकृत कम प्रतीत होते हैं । शतपथ ब्राह्मण ७.२.४.१७ में प्रश्न उठाया गया है कि बीज वपन आत्मा के कृष्ट प्रदेश में करना है या अकृष्ट क्षेत्र में ( कृष्ट प्रदेश ग्राम्य कहलाता है, अकृष्ट प्रदेश आरण्य ) । कहा गया है कि दोनों प्रदेशों पर ही वपन होना चाहिए । बीज वपन के संदर्भ में पुराणों में राजा कुरु की कथा आती है जो कर्षण करते हुए इन्द्र से संवाद करते हैं । इन्द्र कुरु से पूछता है कि तुम बीज कहां से लाओगे । कुरु का उत्तर है कि मेरे अंग ही बीज का कार्य करेंगे । तब इन्द्र उनके अंगों को अपने चक्र से काट देता है आदि ।

          शतपथ ब्राह्मण ९.३.३.१४ में अन्न को त्रयी विद्या कहा गया है । त्रयी विद्या में स्तोम व यजु, ऋक् व साम तथा बृहत् व रथन्तर का उल्लेख किया गया है ।

           वैदिक साहित्य में स्व पुरुषार्थ से, कृषि आदि से अन्न प्राप्ति के लिए व्रतों का सुझाव दिया गया है । व्रत का अर्थ है कि बाहर से अन्न ग्रहण नहीं करना है, केवल अपने पुरुषार्थ से ही अन्न की प्राप्ति करनी है । सोमयाग में एक विशेष दिन के कृत्यों की संज्ञा महाव्रत है । इस दिन सामवेद के बहुत से स्तोत्रों का गान होता है और फिर वीणा वादन होता है । कहा गया है कि स्तोत्रों के द्वारा अमर्त्य स्तर को अन्न की प्राप्ति करायी जाती है, जबकि गात्र वीणा के वादन द्वारा मर्त्य स्तर को । सामवेद में सामों का गान इस प्रकार होता है जिस प्रकार शास्त्रीय गायन सुनने को मिलता है । एक ही पंक्ति की पुनरुक्ति की जाती है । इसे स्तोम बनाना कहते हैं । पुनरुक्ति कितनी बार की जानी है, यह स्तोम विशेष पर निर्भर करता है । जैमिनीय ब्राह्मण में कहा गया है कि प्रजापति की सभी प्रजाएं उनसे दूर चली गई, एक इन्द्र नहीं गया । तब प्रजापति ने इन्द्र से कहा कि स्तो मे, मेरी स्तुति करो । यही स्तोम है । इससे प्रजापति की क्षुधा की तृप्ति हो गई । इसका तात्पर्य होगा कि क्षुधा का कारण यह है कि हमारे व्यक्तित्व का पालन करने वाली कोई तरंग हमसे दूर चली गई है । उसे वापस लाना है । शतपथ ब्राह्मण ८.१.१.३ व ८.३.३.६ में प्राणभृद् इष्टकाओं के संदर्भ में पांच दिशाओं में प्राण, अपान, व्यान, उदान व समान वायुओं की तृप्ति हेतु ५ स्तोमों, ५ छन्दों, ५ ऋतुओं, ५ ऋषियों आदि के उल्लेख हैं । इसी से मिलता हुआ वर्णन जैमिनीय ब्राह्मण २.२१८ में भी आता है ।

          वैदिक साहित्य में सार्वत्रिक रूप से ( अथर्ववेद ६.७१.१, शतपथ ब्राह्मण ६.८.२.७, ७.५.२.६, ७.५.२.४२ ८.६.२.१ आदि ) पशुओं या ५ पशुओं का उल्लेख अन्न के रूप में आता है । शतपथ ब्राह्मण १०.३.४.४ में उल्लेख है कि अग्नि महत् के लिए ओषधि - वनस्पतियों की अन्न के रूप में व्यवस्था की गई, वायु महत् के लिए आपः रूपी अन्न की, आदित्य महत् के लिए चन्द्रमा रूपी अन्न की और पुरुष के लिए पशुओं रूपी अन्न की । यह पशु रूपी अन्न क्या है, यह अस्पष्ट है । शतपथ ब्राह्मण १२.७.३.८, १२.७.३.१७, १२.८.१.२० आदि में सौत्रामणी के संदर्भ में कहा गया है कि सोम पयः है, अन्न सुरा है । पयः की पराकाष्ठा सोमपान में है, सुरा की पराकाष्ठा अन्नाद्य ( अन्नों में सर्वश्रेष्ठ, दधि, घृत व मधु ) प्राप्ति में है । सोम पयोग्रह से सम्बन्धित है, अन्न सुराग्रह से । पशु पयोग्रह हैं ( उनमें पयः की उत्पत्ति होती है ), अन्न सुराग्रह हैं । ग्राम्य पशु पयोग्रहा हैं, आरण्यक पशु सुराग्रहा हैं ।

          वैदिक व पौराणिक साहित्य में अन्न का ग्राम्य व आरण्यक अन्न में वर्गीकरण किया गया है । पौराणिक व्यवस्था के अनुसार व्रत के दिन अन्न का भक्षण न करे । यदि करना ही पडे तो आरण्यक अन्न का सेवन कर ले । शतपथ ब्राह्मण ९.१.१.३ में ग्राम्य व आरण्यक अन्न का उल्लेख आता है । शतपथ ब्राह्मण ९.३.१.२४ का कथन है कि अरण्य तिर की भांति है, अर्थात् अरण्य के पशु देखते ही तिरोहित हो जाते हैं । इसी प्रकार अवाङ्ग प्राण हैं । ब्राह्मण ग्रन्थ कहते हैं कि सात ग्राम्य ओषधियां हैं, सात आरण्य ओषधियां ( तैत्तिरीय संहिता १.३.८.१) । शतपथ ब्राह्मण १२.७.२.९ में सौत्रामणि याग के संदर्भ में ग्राम्य व आरण्यक अन्नों के रूप में व्रीहि, श्यामाक, गोधूम, कुवल, उपवाक, बदर, यव, कर्कन्धू, शष्प, तोक्म का नाम आया है ( शतपथ ब्राह्मण १२.९.१.१ में शष्प को लोम को प्रतीक, तोक्म को त्वक् का, लाजा को मांस का, कारोतर को अस्थि का, मासर को मज्जा का, नग्नहु को लोहित का, पयः को रेतः का व सुरा को मूत्र इत्यादि का प्रतीक कहा गया है ) । बृहदारण्यक उपनिषद १.५.१ में उल्लेख आता है कि प्रजापति ने अपने तप व मेध से सात अन्न उत्पन्न किए । उनमें से एक साधारण अन्न है, दो अन्न देवताओं को दिए, तीन अपने लिए रखे, एक पशुओं को दिया । शतपथ ब्राह्मण ८.३.३.७ में अन्नों का वर्गीकरण निरुक्त व अनिरुक्त अन्नों में किया गया है । इन निरुक्त व अनिरुक्त अन्नों की प्राप्ति के लिए ८ निरुक्त छन्दों व ४? अनिरुक्त छन्दों वाली इष्टकाओं की व्यवस्था दी गई है । कहा गया है कि निरुक्त अन्न में दोष यह है कि यह अन्त वाला है, समाप्त होने वाला है, अनन्त नहीं । अतः निरुक्त व अनिरुक्त दोनों प्रकार के अन्नों की प्राप्ति की आवश्यकता है । शतपथ ब्राह्मण १०.१.१.११ के अनुसार भुक्त अन्न का अमृत भाग नाभि से ऊपर रहता है । मर्त्य भाग नाभि से नीचे रहता है ।

          शतपथ ब्राह्मण आदि में सार्वत्रिक रूप से उदुम्बर को अन्न कहा गया है ( उदुम्बर शब्द पर टिप्पणी द्रष्टव्य है ) । शतपथ ब्राह्मण ७.५.१.१६ में प्राण, अन्न व ऊर्क् के त्रिक् का उल्लेख है । उदुम्बर का उल्लेख ऊर्क् व अन्न के रूप में साथ - साथ आता है । शतपथ ब्राह्मण ५.३.५.१२ के अनुसार जो ऊर्क् है, वह मनुष्य का स्व है । जब तक पुरुष का स्व बना रहता है तब तक उसे क्षुधा नहीं सताती । सोमयाग में लगता है कि इस कथन का बहुलता से उपयोग किया गया है । सोमयाग में उत्तरवेदी में पश्चिम दिशा में सदोमण्डप बना होता है जिसमें ऋत्विजगण आसीन होकर गायन आदि करते हैं । इस सदोमण्डप को यज्ञपुरुष का उदर कहा गया है ( शतपथ ब्राह्मण ३.६.१.२) । उदर में ही अन्न का ग्रहण होता है । इस सदोमण्डप के मध्य में उदुम्बर काष्ठ का एक स्तम्भ गडा होता है जिसे औदुम्बरी कहते हैं । सामवेदी गण इसी के परितः आसीन होकर सामगान करते हैं । कहा जाता है कि यह स्तम्भ सामवेदियों द्वारा की गई त्रुटियों का संशोधन करता रहता है । एक ओर स्व से, ऊर्क् से युक्त उदर है तो दूसरी ओर शतपथ ब्राह्मण १.६.३.१७ में आसुरी उदर में वृत्र की स्थिति का कथन है ।

                   वैदिक साहित्य में अन्न और अन्न रस प्राप्ति के उपायों का उल्लेख आता है । अथर्ववेद १९.७.४ के अनुसार आपः देवता वाला पूर्वाषाढा नक्षत्र अन्न में रस प्रदान करता है । शतपथ ब्राह्मण ८.५.४.१ में वाक् के रूप में अषाढा नामक इष्टका का नाम आया है जो पृथिवी का रूप है । आदित्य स्तोमभागा इष्टकाएं है । आदित्य रस है । शतपथ ब्राह्मण ८.५.३.२ के अनुसार छन्दस्या इष्टकाएं अन्न हैं और स्तोमभागा इष्टकाएं अन्न रस हैं । शतपथ ब्राह्मण ८.५.२.१ के अनुसार ४० छन्दस्या इष्टकाएं अन्न का कार्य पापरहित होने पर ही करती हैं । योग के ग्रन्थों में उल्लेख है कि जो तालु मूल में स्रवित होने वाले द्रव को जिह्वा का तालुमूल में प्रवेश कराकर पीने में समर्थ होता है, वह पूर्ण: तृप्त हो जाता है । इसी तथ्य का उल्लेख ऋग्वेद ६.४१.३ में है । शतपथ ब्राह्मण १०.३.५.१२ के अनुसार यावन्मात्र रस ही सारे अन्न का संस्कार कर देता है ।

          ऋग्वेद १.१८७ सूक्त अन्न देवता का है । इस सूक्त में अन्न को वातापी संज्ञा दी गई है और कामना की गई है कि वातापी मोटा - ताजा हो । यह सूक्त अगस्त्य ऋषि का है और अगस्त्य ऋषि की कथा में इल्वल अपने भ्राता वातापी को मेष बनाकर उसे पकाकर ब्राह्मणों को खिलाता है जिससे ब्राह्मणों की मृत्यु हो जाती है । अगस्त्य इस वातापी को खाकर पचा जाते हैं जिससे वह पुनः जीवित नहीं हो पाता । इस संदर्भ में प्राण, अपान, व्यान, उदान, समान यह वात के रूप हैं और अन्न का कार्य इनका आप्यायन करना, इन्हें मोटा ताजा बनाना है । इस प्रकार आप्यायित प्राणों का यदि सम्यक् उपयोग न हो सकेगा तो यह भोक्ता को मार डालेंगे ।  इस सूक्त में अन्न को पिता की संज्ञा दी गई है । वह पालने वाला है, मारने वाला नहीं, जबकि पार्थिव अन्न पालने व मारने दोनों का कार्य करता है । अन्न को पिता सदृश बनाने के संदर्भ में शतपथ ब्राह्मण १.९.२.२० तथा २.४.३.१ में अन्न के संदर्भ में एक आख्यान आता है कि असुरों ने अन्न का विष से लेपन कर दिया । तब देवों ने आग्रयण इष्टि द्वारा अन्न के विष को दूर किया ( नव सस्य प्राप्त होने पर आग्रयण इष्टि का विधान है ) ।

           शतपथ ब्राह्मण ९.२.१.१२ में दधि, मधु और घृत को परम अन्न, अन्नाद्य कहा गया है । अग्नि के लिए घृत सर्वश्रेष्ठ अन्न कहा जाता है ( ऋग्वेद १०.६९.२) । अथर्ववेद ८.७.१२

में कहा गया है कि गौ घृत रूपी अन्न उत्पन्न करने में समर्थ हो सके, इसके लिए यह आवश्यक है कि वह ऐसे घास/वीरुध का भक्षण करे जो सर्वांग में मधु से निर्मित हो । ब्राह्मण ग्रन्थों में योग मार्ग के घृत की व्याख्या का प्रयास यह  कह कर किया गया है कि जिस में से सुगन्ध आए, वह घृत है, जिसमें घृf की ध्वनि उत्पन्न हो वह घृत है । शतपथ ब्राह्मण १२.९.१.१ में सौत्रामणि याग के संदर्भ में उल्लेख आता है कि लोक में जो पुरुष अन्न खाता है, उरु लोक में अन्न उसे खाता है । इसका उपाय परिस्रुत अन्न है जो ब्राह्मण द्वारा अन्नाद्य से उत्पन्न किया जाता है । अन्नाद्य के लिए भविष्य में अलग से टिप्पणी की आवश्यकता है ।

           वैदिक साहित्य में सार्वत्रिक रूप से संवत्सर को अन्न कहा गया है क्योंकि अन्न संवत्सर में उत्पन्न होता है ( शतपथ ब्राह्मण १०.४.१.१ आदि ) । जैसा कि अन्य शब्दों की टिप्पणियों में भी कहा जा चुका है, संवत्सर से तात्पर्य पृथिवी, सूर्य व चन्द्रमा के त्रिक् से लेना चाहिए । बाह्य संवत्सर में पृथिवी सूर्य की परिक्रमा करती है तो अध्यात्म में हमारी देह सूर्य रूप किसी ज्योतिपुञ्ज की परिक्रमा करती है । सोमयाग में उत्तरवेदी की अग्नि में सोम, घृत आदि की आहुति प्रदान करने के लिए वषट्कार/वौषट् का उच्चारण किया जाता है । कहा गया है ( शतपथ ब्राह्मण १०.४.१.१४ इत्यादि ) कि वौषट् में वौक् तो सूर्य है और षट् षड्-विध अन्न है । अन्यत्र षट् का निर्वचन ६ ऋतुओं के रूप में किया गया है क्योंकि संवत्सर में ६ ऋतुएं होती हैं । यह संकेत करता है यह मनुष्य व्यक्तित्व के अन्नमय से लेकर हिरण्मय कोष तक सात कोषों की ओर संकेत हो सकता है । सर्वोच्च कोष सूर्य रूप है जिससे नीचे के ६ कोष अन्न ग्रहण करते हैं । शतपथ ब्राह्मण ११.२.४.६ में प्राण को अन्नाद व उदान को अन्नप्रद कहा गया है । शतपथ ब्राह्मण २.४.२.७ में प्रजापति द्वारा देवों, मनुष्यों आदि के लिए अन्न के वितरण का कथन है । देवों के लिए यज्ञ, अमृत व ऊर्क् अन्न हैं तथा सूर्य ज्योति है ( देवों के लिए यज्ञ अन्न कैसे है, इसकी व्याख्या शतपथ ब्राह्मण ५.१.१.२ में मिलती है । अन्न प्राप्त होने पर असुरों ने अन्न का भक्षण केवल अपने आप ही किया । देवों ने एक दूसरे के मुख में डाला । अतः यज्ञ उनका अन्न हुआ ) । पितरों के लिए अन्न स्वधा व मनोजव हैं तथा चन्द्रमा ज्योति है । मनुष्यों के लिए अन्न प्रजा, मृत्यु है तथा अग्नि ज्योति है । पितरों को अन्न अमावास्या को चन्द्रमा के क्षीण होने पर ही प्रदान किया जाता है जिससे देवों को चन्द्रमा से अन्न प्राप्ति में व्यवधान न हो । अमावास्या को चन्द्रमा पृथिवी पर ओषधियों आदि में प्रवेश कर जाता है ( यदि चन्द्रमा को मन के निरुक्त व अनिरुक्त, चेतन व अचेतन भाग माना जाए तो अचेतन मन को ओषधियों में प्रयुक्त चन्द्रमा माना जा सकता है ) । पितरों का अन्न स्वधा कहा गया है ( शतपथ ब्राह्मण १३.८.१.४) । डा. फतह सिंह के अनुसार जो स्व को धारण करता हो, वह स्वधा है । दूसरी ओर देवों का अन्न स्वाहाकार है ।

          ब्राह्मण ग्रन्थों में अन्न को सार्वत्रिक रूप से विट्/प्रजा की संज्ञा दी गई है ( शतपथ ब्राह्मण ४.३.३.१२ इत्यादि ) । शतपथ ब्राह्मण ३.३.२.८ के अनुसार सोम क्षत्र है, अन्य ओषधियां विट् हैं । अन्न ही क्षत्र की विशः हैं ।

           अथर्ववेद ७.१०६.१ में स्वप्न में भुक्त किसी अन्न का उल्लेख है । अन्न का विभिन्न स्तरों पर वास्तविक भोक्ता कौन है, इसका वर्णन अथर्ववेद १५.१५.१ में किया गया है । इस भोक्ता को वैदिक साहित्य में अन्नाद कहते हैं । अग्नि अन्नाद है । अन्न को ग्रहण करने के लिए यह आवश्यक है कि अन्नाद या प्राण पूर्ण रूप से विकसित हो । शतपथ ब्राह्मण ८.६.३.५ के अनुसार गार्हपत्य अन्न है, चिति को प्राप्त अग्नि अत्ता है । मैत्रायणी उपनिषद ६.१० में भोक्ता पुरुष और भोज्य प्रकृति का कथन है । शतपथ ब्राह्मण ६.१.२.२५ में अत्ता को क्षत्रिय व अन्न को विशः कहा गया है । शतपथ ब्राह्मण ६.३.१.१७ के अनुसार प्राण पूर्व्य ब्रह्म है, अन्न नम: है । अन्नाद की विस्तृत चर्चा इस टिप्पणी में नहीं की जा रही है । अग्नि के विकास के लिए वैदिक साहित्य में अग्निचयन का विस्तृत वर्णन मिलता है ।

          शतपथ ब्राह्मण १२.२.४.५ में गवामयन सोमयाग के संदर्भ में कहा गया है कि पृष्ठ्य षडह का तीसरा अह वर्षिष्ठ है, चौथा अह विराट् है, अन्न विराट् है । पांचवां अह प्रथिष्ट है । चतुर्थ अह विराट्, अन्न कैसे बनता है, यह अन्वेषणीय है ।

          वैदिक निघण्टु में अन्न के २८ अन्य रूपों की परिगणना की गई है जिनका निर्वचन होना अभी शेष है ।

          अन्न पर यह टिप्पणी वैदिक ग्रन्थों के बहुत सीमित अवलोकन पर आधारित है । भविष्य में पूर्ण अवलोकन पर आधारित टिप्पणी अपेक्षित है ।

प्रथम प्रकाशन : १९९४ ई.

संदर्भ

अन्न

*प्र वो वाजा अभिद्यव इति। अन्नं वै वाजाः - मा.श. १.४.१.९

*अन्नं धाय्ये, मुखत इदमन्नाद्यं दध्म इति वदन्तः। तदु तथा न कुर्यात् - मा.श. १.४.१.३७

*प्रयाज ब्राह्मणम् : (क्षुद्र सरीसृप वर्षा में) ईडितमिवान्नमिच्छमानं चरति - तस्माद्वर्षा इडः - मा.श. १.५.३.११

*वृत्र का द्वेधा विभक्त होना। सौम्य चन्द्रमा, असुर्य उदर। वृत्र अन्नाद - मा.श. १.६.३.१७

*सोम राजा देवों का अन्न। अमावास्या में सोम का ओषधियों में प्रवेश - मा.श. १.६.४.५, १.६.४.१५

*अविषं नः पितुं कृणु। अन्नं वै पितुः। - मा.श. १.९.२.२०

*सम्भरण : अपः संभरति। अन्नं वा आपः अन्नं हि वा आपस्तस्माद् यदेमं लोकमाप आगच्छन्ति अथेहान्नाद्यं जायते - मा.श. २.१.१.३

*अग्नये पवमानाय : अन्नं हि प्राणः। अन्नमेषाहुतिः। अग्नये पावकाय : अन्नं वै पावकम् - मा.श. २.२.१.६

*अन्नं गौ - मा.श. २.२.४.१३

*अन्न का वितरण : देवों के लिए अन्न यज्ञ, अमृत, ऊर्ग्, सूर्य ज्योति, पितरों के लिए अन्न स्वधा, मनोजव, चन्द्रमा ज्योति, मनुष्यों के लिए अन्न प्रजा, मृत्यु, अग्नि ज्योति। पितरों को चन्द्रमा क्षीण होने पर अन्न की प्राप्ति - मा.श. २.४.२.७

*अन्न को निर्विष करने हेतु आग्रयणेष्टि - मा.श. २.४.३.१

*अन्नमेव प्रजाः। पय एवान्नम् - मा.श. २.५.१.६

*मेखला त्रिवृद् भवति। त्रिवृद्ध्यन्नम्। पशवो ह्यन्नम्। पिता, माता, यज्जायते - तत् तृतीयम् - मा.श. ३.२.१.१२

*औदुम्बर दण्ड। अन्नं वा ऊर्क् उदुम्बर ऊर्जः - मा.श. ३.२.१.३३

*क्षत्र सोम, विड अन्य ओषधि। अन्नं वै क्षत्रस्य विट् - मा.श. ३.३.२.८

*औदुम्बरी आसन्दी। अन्नं वा ऊर्क् - - - - - - नाभिदघ्ना भवति। अत्र वा ऽअन्नं प्रतितिष्ठति, अन्नं सोमः। - मा.श. ३.३.४.२७

*औदुम्बरी। अन्नं वा ऊर्गुदुम्बरः। उदरमेवास्य सदः। मध्ये औदुम्बरी - मा.श. ३.६.१.२

*यूप का परिव्ययन। अन्नाद्यं दधाति - मा.श. ३.७.१.२०

*पशु अनुयाज। पय पृषदाज्य। प्राण पृषदाज्य। अन्न पृषदाज्य। अन्न प्राण - मा.श. ३.८.४.८

*अथ सौम्यम् (पशुम्)। अन्नं वै सोमः - मा.श. ३.९.१.८

*वाग्वै सरस्वती। अन्नं सोमः। तस्माद्यो वाचा प्रसामि, अन्नादो भवति - मा.श. ३.९.१.९

*विशो वै मरुतः, अन्नं वै विशः। ऋतवो वा इदं सर्वमन्नाद्यं पचन्ति - मा.श. ४.३.३.१२

*प्राणो हि गौः। अन्नं हि गौः। अन्नं हि प्राणाः। - मा.श. ४.३.४.२५

*चरुर्वै देवानामन्नं। ओदनो हि चरुः। - मा.श. ४.४.२.१

*अन्नमेव ग्रहः। अन्नेन हीदं सर्वं गृहीतम् - मा.श. ४.६.५.४

*आपः व सोम से चन्द्रमा का जन्म। अन्न से अन्न का। चन्द्रमा सूर्य का अन्न। अन्नाद्य ऋचा व साम से यजमान का जन्म - मा.श. ४.६.७.१२

*देवों से अन्नाद्य दूर हुआ। पशवो वा अन्नम् - मा.श. ४.६.९.१

*वाजपेय : देवों ने एक दूसरे के मुख में जुहा। यज्ञो हैषामास। यज्ञो हि देवानामन्नम् - मा.श. ५.१.१.२

*प्रजापति वाचस्पतिः। अन्नं वाजः - मा.श. ५.१.१.१६

*अन्नं वा एष उज्जयति - यो वाजपेयेन यजते। अन्नपेयं ह वै नामैतद् - यद्वाजपेयम्। - मा.श.

*विशो वै मरुतः। अन्नं वै विशः। - मा.श. ५.१.३.३

*अन्नं वै प्रजापतिः। पशुर्वा अन्नम् - मा.श. ५.१.३.७

*अन्नं वा ऊर्गुदुम्बरः। ऊर्ग्वै स्वम्। यावद्वै पुरुषस्य स्वं भवति - नैव तावदशनायति - मा.श. ५.३.५.१२

*अत्ता क्षत्रिय, अन्नं विट् - मा.श. ६.१.२.२५

*अन्नं वा आयतनम्, अन्नम् पशवः - मा.श. ६.२.१.१४

*प्राणो वै ब्रह्म पूर्व्यं, अन्नं नमः - मा.श. ६.३.१.१७

*सर्व अन्न उदुम्बर - मा.श. ६.६.३.३

*अपरशुवृक्ण अन्न - मा.श. ६.६.३.५

*अधःशयम् अन्न - मा.श. ६.६.३.६

*द्वेष करने वाले को अन्न के रूप में - मा.श. ६.६.३.११

*यदु स्वाहाकारेण - तेनान्नम्। अन्नं हि स्वाहाकारः - मा.श. ६.६.४.१७

*अन्न आसंजन। अन्न में आत्मा प्राणों द्वारा आसक्त - मा.श. ६.७.१.२१

*अन्नं विशः - मा.श. ६.७.३.७

*अन्नं पशवः - मा.श. ६.८.२.७

*वीर्य उदक्रामत् - असौ स आदित्यः। अथ यदस्मादन्नमस्रवत्- यदेव संवत्सरेऽन्नम् - तत्तद् - मा.श. ७.१.२.५

*अन्नं कृषि। - - - - आत्मानमेव विकृषति। आत्मंस्तदन्नं दधाति - मा.श. ७.२.२.७

*उभयम्वेतदन्नम् - यद्दर्भाः। आपश्च ह्येता ओषधयश्च। - मा.श. ७.२.३.२

*कृष्ट व अकृष्ट पर वपन। प्राण कृष्ट, आत्मा अकृष्ट - मा.श. ७.२.४.१७

*बाहुओं द्वारा अन्न - मा.श. ७.४.१.४०

*अन्नं स्वयमातृण्णा (प्राणो स्वयमातृण्णा, इयं स्वयमातृण्णा) - मा.श. ७.४.२.१

*सर्व अन्न उलूखल मुसल - मा.श. ७.५.१.१२

*प्राण, अन्न, ऊर्क् का त्रिक् - मा.श. ७.५.१.१६

*प्राण गायत्री, अन्न विष्णु, ऊर्क् उदुम्बर - मा.श. ७.५.१.२१

*दूर्वेष्टका संस्कृत पशु का अन्न - मा.श. ७.५.१.३८

*अन्न सृजन हेतु ५ पशुओं की सृष्टि - मा.श. ७.५.२.६

*अन्न विराड्, अन्न गौ - मा.श. ७.५.२.१९

*अन्नं पशवः। अन्नमु पशोर्मांसम् - मा.श. ७.५.२.४२

*अन्न पशोः त्वक्, अन्न लोम - मा.श. ७.५.२.४३

*अन्नं वा अपां पाथः - मा.श. ७.५.२.६०

*प्राणभृतं अन्नं - मा.श. ८.१.१.३

*शिरो वैश्वानरः। शीर्ष्णो वाऽअन्नमद्यते। - - - - प्राणा वै मरुताः। प्राणैरु अन्नमद्यते - मा.श. ८.३.२.४

*अन्नमस्रीवयः - मा.श. ८.३.३.५

*अन्नं वै स्तोमाः - मा.श. ८.३.३.६

*तृतीया चितिः। निरुक्त व अनिरुक्त छन्द। निरुक्त /अन्तवत् व अनिरुक्त अन्न - मा.श. ८.३.३.७

*पञ्चमी चिति। असपत्नेष्टका। अन्नं पुरीषवती। स योऽस्योपरिष्टात् पाप्माऽऽसीद् - अन्नेन तमपाहत - मा.श. ८.५.१.१६

*पापरहित होने पर ४० छन्दस्येष्टकाएं अन्न रूप में - मा.श. ८.५.२.१

*४० इष्टकाएं, ४० यजु। अन्न ८० - मा.श. ८.५.२.१७

*अन्न छन्दस्या, अन्न रस स्तोमभागा - मा.श. ८.५.३.२

*वाग्वा अषाढा। रस एषः। - - - - इयं वा अषाढाः असावादित्यः स्तोमभागाः - मा.श. ८.५.४.१

*अन्नं वै पुरीषम्। रस एषः। तमेतत्तिरः करोति - मा.श. ८.५.४.४

*अन्नं पशवः। अन्नमु श्रीः। - मा.श. ८.६.२.१

*त्रिवृत् गर्भ उल्ब जरायु। त्रिवृत् अन्न - कृषि वृष्टि बीज - मा.श. ८.६.२.२

*अन्नं वै गार्हपत्यः, अत्ताऽयमग्निश्चितः - मा.श. ८.६.३.५

*अन्नं यजुष्मतीष्टका, आत्मा लोकम्पृणा - मा.श. ८.७.२.८

*प्राणो स्वयमातृण्णा, अन्नं पुरीषम् - मा.श. ८.७.३.२

*सर्वम्वेतदन्नं यन्मण्डूकः, अवका, वेतसशाखा। पशवश्च ह्येताः, आपश्च वनस्पतयश्च। सर्वेणैवैनमेतदन्नेन प्रीणाति - मा.श. ९.१.२.२३

*परम अन्न = परम रूप - मा.श. ९.२.१.१२

*अन्न आयु, अश्मा, पृश्नि - मा.श. ९.२.३.१६

*ग्राम्य व आरण्य अन्न। जर्तिल ग्राम्य व आरण्य दोनों। तिर इव तद् यद् अरण्यम्। तिर इव तद् - यद् अवाङ् प्राणः - मा.श. ९.३.१.२४

*अन्नं त्रयी विद्या (स्तोम यजु, ऋक् साम बृहत् रथन्तर) - मा.श. ९.३.३.१४

*अनन्त अन्न - मा.श. ९.३.३.१७

*भुक्त अन्न का अमृत भाग नाभि से ऊपर। मर्त्य भाग नाभि से नीचे - मा.श. १०.१.१.११

*प्राण द्वारा देव अन्न खाते हैं, अपान द्वारा मनुष्य। अग्नि देवों का प्राण - मा.श. १०.१.४.१२

*पक्षों में अरत्नि। बाहू पक्ष। अरत्निमात्र अन्न खाते हैं - मा.श. १०.२.२.७

*पुच्छ में वितस्ति। प्रतिष्ठा पुच्छ, हस्त वितस्ति। हस्त द्वारा अन्न खाते हैं। अन्न की प्रतिष्ठा पुच्छ में। - मा.श. १०.२.२.८

*तीन पञ्चविध हैं - संवत्सर, अग्नि, पुरुष। उनकी पांच विधाएं - अन्न, पान, श्री, ज्योति, अमृत - मा.श. १०.२.६.१६

*अग्नि महत् के लिए ओषधि - वनस्पति अन्न, वायु महत् के लिए आपः अन्न, आदित्य महत् के लिए चन्द्रमा, पुरुष के लिए पशवः। - मा.श. १०.३.४.४

*अर्कमूल अन्न - मा.श. १०.३.४.५

*अन्न यजु। अन्नेन जायते। अन्नेन जवते - मा.श. १०.३.५.६

*यावन्मात्र इवान्नस्य रसः सर्वमन्नमवति - मा.श. १०.३.५.१२

*प्रजापति को उखा योनि में रेत रूप में सीचा। उसके लिए संवत्सर में अन्न किया। जो अग्निचित है - मा.श. १०.४.१.१

*षट्-चितिक अन्न - मा.श. १०.४.१.३

*ऊर्क् में क्यम् अन्न। यह अग्निचित है। महान् का अन्न व्रत। ओक् का अन्न थम् - मा.श. १०.४.१.४, १०.४.१.२१

*अग्नि प्रजापति के लिए महाव्रतीय ग्रह द्वारा संवत्सर का अन्न - मा.श. १०.४.१.१२

*वौषट् में वौक् एषः। षट् षट्-विध अन्न - मा.श. १०.४.१.१४

*प्राण के लिए १६ कलाओं द्वारा अन्न का हरण। लोम, त्वक्, असृग्, मेद, मांस, स्नाव, अस्थि, मज्जा। प्राण १७ प्रजापति - मा.श. १०.४.१.१७

*सप्तदश प्रजापति के लिए सप्तदश अन्न का निर्माण। १६ ऋत्विज १६ कला। आहुतियों द्वारा आहूत रस १७वां अन्न - मा.श. १०.४.१.१९

*मण्डल अन्न, मण्डल में पुरुष अत्ता। शरीर अन्न, दक्षिण अक्षि में पुरुष अत्ता - मा.श. १०.५.२.१८

*दिशाओं व रश्मियों में अन्न पुरीष। वही आहुतियां - मा.श. १०.५.४.४

*नक्षत्रों में अन्न पुरीष। वही आहुतियां - मा.श. १०.५.४.५

*छन्दों में अन्न पुरीष - मा.श. १०.५.४.८

*अहोरात्रों में अन्न पुरीष - मा.श. १०.५.४.१०

*आहुति चन्द्रमा, नक्षत्र समिधा - मा.श. १०.५.४.१७

*प्राण अत्ता। उसका अन्न आहितयः - मा.श. १०.६.२.४

*अदिति के अदितित्व को जानने से सर्व अन्न - मा.श. १०.६.५.५

*यज्ञो देवानामन्नम् - मा.श. ११.१.८.२

*प्राण अन्नाद, उदान अन्नप्रद - मा.श. ११.२.४.६

*अन्न समिष्टयजुः - मा.श. ११.२.७.३१

*जिह्वा समिधम्। अन्न शुक्रामाहुतिं - मा.श. ११.६.२.९

*होता को अध्वर्यु द्वारा दीक्षा। अग्नि व वाक् होता, अन्न वृष्टि - मा.श. १२.१.१.४

*अन्न उक्थ्य, वीर्यं षोडशी। अन्न व वीर्य से सब कामों की प्राप्ति - मा.श. १२.२.२.७

*गवामयन के अह : (तीसरा अह वर्षिष्ठ, पांचवा प्रथिष्ठ), चतुर्थ अह विराट्, अन्न विराट् - मा.श. १२.२.४.५

*सौत्रामणी : अन्नं वा एतद् ब्राह्मणस्य यत्सोमः। पशवो हि सोम - मा.श. १२.७.२.२

*व्रीहि, श्यामाक, गोधूम, कुवल, उपवाक, बदर, यव, कर्कन्धू, शष्प, तोक्म। ग्राम्य व आरण्य अन्न - मा.श. १२.७.२.९

*अन्नं विराट्। वरुणो अन्नपतिः - मा.श. १२.७.२.२०

*सोम पयः, अन्न सुरा। पयः द्वारा सोमपीथ, सुरा द्वारा अन्नाद्य प्राप्ति - मा.श. १२.७.३.८

*सोम पयोग्रहाः। अन्नं सुराग्रहाः - मा.श. १२.७.३.१७

*पशवो वै पयोग्रहाः, अन्नं सुराग्रहाः। ग्राम्या वै पशवो पयोग्रहाः। आरण्याः सुराग्रहाः। प्राणो वा अन्नं पयः। प्राण एव अन्नाद्येऽन्ततः प्रतितिष्ठन्ति - मा.श. १२.८.१.२०

*पुरस्तात् प्रत्यङ्ङभिषिंचति। पुरस्ताद्धि प्रत्यगन्नमद्यते शीर्षतः। तस्मात् सौत्रामण्येजानस्य सर्वासु दिक्षु अन्नाद्यमरुन्द्धं भवति - मा.श. १२.८.३.१७

*सौत्रामणी : लोक में जो पुरुष अन्न खाता है, उरु लोक में अन्न उसे खाता है। स वा एष परिस्रुतो यज्ञस्तायते। अन्नाद्या वै ब्राह्मणेन परिस्रुत्। स एतस्माद् अन्नाद्यात् जायते। तं हामुष्मिन् लोके ऽन्नं न प्रत्यत्ति - मा.श. १२.९.१.१

*लोम शष्प, त्वक् तोक्मानि, मांसं लाजा, अस्थि कारोतरा, मज्जा मासरम्, रसः परिस्रुत्, नग्नहुर्लोहितम्, रेतः पयः, मूत्रं सुरा, ऊवध्यं वल्कसम्। - मा.श.

*यद्वै प्राणेनान्मत्ति। तत् व्यानेन व्यानिति। शिश्नेन वा अन्नस्य रसं रेतः सिञ्चति। - मा.श. १२.९.१.१६

*अवभृथ से उदित होकर : प्राणो वै मित्रः। अपानो वरुणः। अन्नमेव पयस्या। मैत्रावरुण्या पयस्यया यजते। प्राण एवान्नाद्येऽन्ततः प्रतितिष्ठति - मा.श. १२.९.२.१२

*अन्नमुक्थ्यः। आत्मातिरात्रः। उक्थ्यावतिरात्रमभितो भवतः। तस्मादयमात्माऽन्नेन परिवृतः। - मा.श. १३.६.१.९

*तस्य यदेषु लोकेषु अन्नम्। तदस्यान्नं मेधः। तद्यदस्यान्नं मेधः। तस्मात् पुरुषमेधः। - मा.श. १३.६.२.१

*अन्नं वा एते पशवः। उदरं मध्यममहः। उदरे तदन्नं दधाति - मा.श. १३.६.२.२

*दशाक्षरा विराट्। विराड् उ कृत्स्नमन्नम् - मा.श. १३.७.१.२

*श्मशान : शवान्न - मा.श. १३.८.१.१

*पितृमेधः :- स्वधा वै शरत्। स्वधा उ वै पितॄणामन्नम् - मा.श. १३.८.१.४

*घर्मोद्वासनम् : अथास्मिन् पय आनयति। घर्मैतत्ते पुरीषम्। अन्नं वै पुरीषम् - मा.श. १४.३.१.२३

*यत्सप्तान्नानि मेधया तपसाऽजनयत्पिता। एकमस्य साधारणं द्वे देवानभाजयत्। त्रीण्यात्मनेऽकुरुत। पशुभ्य एकं प्रायच्छत्। - बृहदारण्यक उपनिषद १.५.१

*अन/प्राण का अन्न - बृहदारण्यक उपनिषद ६.१.१४

*पुरुषश्चेता प्रधानान्तस्थः स एव भोक्ता प्राकृतमन्नं भुंक्त इति। तस्यायं भूतात्मा ह्यन्नमस्य कर्ता प्रधानः। तस्मात् त्रिगुणं भोज्यं भोक्ता पुरुषोऽन्तःस्थः। - - - - भोक्ता पुरुषो भोज्या प्रकृति। प्राकृतमन्नं त्रिगुणभेदपरिमाणमत्वा - - - - तस्यात्येवं तिसृष्ववस्थास्वन्नत्वं भवति कौमारं यौवनं जरा परिणामत्ववात्तदन्नत्वम्। स्वं प्रधानस्य व्यक्ततां गतस्योपलब्धिर्भवति तत्र बुद्ध्यादीनि स्वादुनि भवन्ति - मैत्रायण्युपनिषद ६.१०

*परं वा एतदात्मनो रूपं यदन्नमन्नमयो ह्ययं प्राणः। प्राणो वा अन्नस्य रसो मनः प्राणस्य - मैत्रायणी उपनिषद ६.१३