Site hosted by Angelfire.com: Build your free website today!

पुराण विषय अनुक्रमणिका

PURAANIC SUBJECT INDEX

(Anapatya to aahlaada only)

by

Radha Gupta, Suman Agarwal, Vipin Kumar

Home Page

Anapatya - Antahpraak (Anamitra, Anaranya, Anala, Anasuuyaa, Anirudhdha, Anil, Anu, Anumati, Anuvinda, Anuhraada etc.)

Anta - Aparnaa ((Antariksha, Antardhaana, Antarvedi, Andhaka, Andhakaara, Anna, Annapoornaa, Anvaahaaryapachana, Aparaajitaa, Aparnaa  etc.)

Apashakuna - Abhaya  (Apashakuna, Apaana, apaamaarga, Apuupa, Apsaraa, Abhaya etc.)

Abhayaa - Amaavaasyaa (Abhayaa, Abhichaara, Abhijit, Abhimanyu, Abhimaana, Abhisheka, Amara, Amarakantaka, Amaavasu, Amaavaasyaa etc.)

Amita - Ambu (Amitaabha, Amitrajit, Amrita, Amritaa, Ambara, Ambareesha,  Ambashtha, Ambaa, Ambaalikaa, Ambikaa, Ambu etc.)

Ambha - Arishta ( Word like Ayana, Ayas/stone, Ayodhaya, Ayomukhi, Arajaa, Arani, Aranya/wild/jungle, Arishta etc.)

Arishta - Arghya  (Arishtanemi, Arishtaa, Aruna, Arunaachala, Arundhati, Arka, Argha, Arghya etc.)           

Arghya - Alakshmi  (Archanaa, Arjuna, Artha, Ardhanaareeshwar, Arbuda, Aryamaa, Alakaa, Alakshmi etc.)

Alakshmi - Avara (Alakshmi, Alamkara, Alambushaa, Alarka, Avataara/incarnation, Avantikaa, Avabhritha etc.)  

Avasphurja - Ashoucha  (Avi, Avijnaata, Avidyaa, Avimukta, Aveekshita, Avyakta, Ashuunyashayana, Ashoka etc.)

Ashoucha - Ashva (Ashma/stone, Ashmaka, Ashru/tears, Ashva/horse etc.)

Ashvakraantaa - Ashvamedha (Ashwatara, Ashvattha/Pepal, Ashvatthaamaa, Ashvapati, Ashvamedha etc.)

Ashvamedha - Ashvinau  (Ashvamedha, Ashvashiraa, Ashvinau etc.)

Ashvinau - Asi  (Ashvinau, Ashtaka, Ashtakaa, Ashtami, Ashtaavakra, Asi/sword etc.)

Asi - Astra (Asi/sword, Asikni, Asita, Asura/demon, Asuuyaa, Asta/sunset, Astra/weapon etc.)

Astra - Ahoraatra  (Astra/weapon, Aha/day, Ahamkara, Ahalyaa, Ahimsaa/nonviolence, Ahirbudhnya etc.)  

Aa - Aajyapa  (Aakaasha/sky, Aakashaganga/milky way, Aakaashashayana, Aakuuti, Aagneedhra, Aangirasa, Aachaara, Aachamana, Aajya etc.) 

Aataruusha - Aaditya (Aadi, Aatma/Aatmaa/soul, Aatreya,  Aaditya/sun etc.) 

Aaditya - Aapuurana (Aaditya, Aanakadundubhi, Aananda, Aanarta, Aantra/intestine, Aapastamba etc.)

Aapah - Aayurveda (Aapah/water, Aama, Aamalaka, Aayu, Aayurveda, Aayudha/weapon etc.)

Aayurveda - Aavarta  (Aayurveda, Aaranyaka, Aarama, Aaruni, Aarogya, Aardra, Aaryaa, Aarsha, Aarshtishena, Aavarana/cover, Aavarta etc.)

Aavasathya - Aahavaneeya (Aavasathya, Aavaha, Aashaa, Aashcharya/wonder, Aashvin, Aashadha, Aasana, Aasteeka, Aahavaneeya etc.)

Aahavaneeya - Aahlaada (Aahavaneeya, Aahuka, Aahuti, Aahlaada etc. )

 

 

It seems that the divine water called Ambhah, when it enters into impure nature, is converted into power Ambaa. In Ashvamedha sacrifice, there is a reference that after the death of sacrificial horse, the 3 queens of the king, whose names are Ambaa, Ambaalikaa and Ambikaa are invoked. Out these three, Ambaa pretends to conceive from the dead horse. Here death may be symbolic of the inward consciousness. It is possible that these queens exalt the yajamaana to a new height of consciousness. It has been stated that at first level, there is thrilling, at second stage, coldness, at third nourishment and the fourth stage is of a bird. The second aspect of Ambaa appears in 4 month sacrifice where Tryambaka rudra and her consort Ambikaa make mouse as their animal while Ambaa pacifies Tryambaka so that he may be benevolent to us. According to one text, Amba praana makes  possible the return of those progeny which went away from us. The third form of Ambaa appears in the mention of 7 Krittikaas. It has been stated that one who reaches heaven through divine path called Devayaana, he is greeted there by celestial girls like Ambaa ( in the form of river), Ambaayaavi and others. In Rigveda, goddess Sarasvati has been mentioned as the highest Amba.

 (First published : 1994AD(Vikrami 2051)

अम्बा

टिप्पणी : ऐसा प्रतीत होता है कि सर्वोच्च स्तर पर अम्भ: नामक जो आभा रूपी प्राण परमेश्वर से मिलता है, वह प्रकृति में व्याप्त होकर अम्बा नामक शक्ति बन जाता है ( मैत्रायणी संहिता ..) लेकिन जीव के अहंकार ग्रस्त होने के कारण जीव उस शक्ति का लाभ नहीं उठा पाता तैत्तिरीय संहिता ..१९. इत्यादि के अनुसार अश्वमेध यज्ञ में यजमान रूपी अश्व की मृत्यु के पश्चात् उसके प्राणों का पुनः आवर्तन करने के लिए यजमान पत्नियों के रूप में अम्बा, अम्बालिका अम्बिका का आह्वान किया जाता है अम्बा मृत अश्व से गर्भ धारण करने का अभिनय करती है यहां मृत्यु से तात्पर्य चेतना का अन्तर्मुखी होना हो सकता है पत्नियों के आह्वान हेतु पठित मन्त्रों का तात्पर्य विचारणीय है अम्बिकादि पत्नियां यजमान की चेतना को नए शिखरों पर स्थापित करती हैं । प्रथम स्तर पर कम्पन, दूसरे स्तर पर शीतलता, तीसरे शूद्र स्तर पर पुष्टि चौथे स्तर पर पक्षी रूप कहा गया है अम्बा का दूसरा स्वरूप चातुर्मास्य में साकमेध पर्व में आता है ( तैत्तिरीय संहिता ... इत्यादि ) यहां त्र्यम्बक रुद्र उनकी स्वसा अम्बिका आखु/मूषक को पशु बनाते हैं जबकि अम्बा त्र्यम्बक देव को शान्त करती हैं जिससे त्र्यम्बक हमारे लिए श्रेय करने वाले हों शतपथ ब्राह्मण ... के आधार पर प्रतीत होता है कि उखा रूपी उषा का भक्षण करने वाला आखु है अन्त में त्र्यम्बक शान्त होकर सुगन्धि पुष्टि देने वाले हो जाते हैं ( महामृत्युञ्जय मन्त्र )      शतपथ ब्राह्मण ...२१ इत्यादि के अनुसार अम्ब प्राणों का मर्त्य स्तर पर अवतरण होने पर जो प्रजाएं ( मन के रूप ) दूर चले गए थे, अब वह निकट आ जाते हैं । अम्ब प्राणों का यह विस्तार चारों दिशाओं से होता है

          अम्बा का एक रूप अम्बा, दुला, नितत्नी, चुपुणिका, अभ्रयन्ती, मेघयन्ती वर्षयन्ती नामक सात कृत्तिकाओं के रूप में प्रकट होता है तैत्तिरीय ब्राह्मण ... के अनुसार अग्नि देवों के लिए तो हवि वहन करती है, लेकिन मनुष्यों के लिए वह तब तक हवि वहन नहीं कर सकती जब तक कि सात कृत्तिकाओं रूपी अग्नि को संतुष्ट किया जाए कृत्तिकाओं को मनुष्य की कृतियों का फल कहा जा सकता है तैत्तिरीय संहिता ... में कृत्तिका स्थापना हेतु सयुज इष्टका अभिधान का वर्णन है कृत्तिकाओं के नाम से प्रकट होता है कि अग्नि का क्रमशः रूपान्तरण होकर वर्षा करने वाला रूप हो जाता है कौशीतकी ब्राह्मण उपनिषद . में उल्लेख है कि जिस मृतक के प्राण देवयान मार्ग से प्रयाण करते हैं, वह तो क्रमशः अग्नि आदि के लोकों को पार करता हुआ अन्त में ब्रह्मलोक में पहुंचता है जहां नदी रूपी अम्बा, अम्बायावी अन्य अप्सराएं उसका स्वागत करती हैं । जो प्राण देवयान मार्ग में स्थापित नहीं हो पाते, वह अग्नि के मार्ग से वर्षा बनकर वर्षा आदि करते हैं । ऋग्वेद .४१.१६ में सरस्वती को अम्बितम कहा गया है

          पुराणों महाभारत में भीष्म अम्बा के प्रसंग पर विचार करते हुए, प्रथमतः अम्बा की आसक्ति शाल्व रूपी सर्व रूप, बहिर्मुख रूप पर है अन्तर्मुखी वृत्ति करने के लिए अम्बा को तप करना पडता है तब वह वत्स देश में नदी और पुनः शिखण्डी रूप में जन्म लेती है भीष्म को शर से आहत करने की घटना वैदिक साहत्य में अम्बा द्वारा शरद उत्पन्न करने का प्रतीक मान सकते हैं । यहां भी शिखण्डी के शरों के पीछे पर्जन्य वर्षा रूपी अर्जुन के शर चल रहे हैं ।