Site hosted by Build your free website today!

पुराण विषय अनुक्रमणिका


(Anapatya to aahlaada only)


Radha Gupta, Suman Agarwal, Vipin Kumar

Home Page

Anapatya - Antahpraak (Anamitra, Anaranya, Anala, Anasuuyaa, Anirudhdha, Anil, Anu, Anumati, Anuvinda, Anuhraada etc.)

Anta - Aparnaa ((Antariksha, Antardhaana, Antarvedi, Andhaka, Andhakaara, Anna, Annapoornaa, Anvaahaaryapachana, Aparaajitaa, Aparnaa  etc.)

Apashakuna - Abhaya  (Apashakuna, Apaana, apaamaarga, Apuupa, Apsaraa, Abhaya etc.)

Abhayaa - Amaavaasyaa (Abhayaa, Abhichaara, Abhijit, Abhimanyu, Abhimaana, Abhisheka, Amara, Amarakantaka, Amaavasu, Amaavaasyaa etc.)

Amita - Ambu (Amitaabha, Amitrajit, Amrita, Amritaa, Ambara, Ambareesha,  Ambashtha, Ambaa, Ambaalikaa, Ambikaa, Ambu etc.)

Ambha - Arishta ( Word like Ayana, Ayas/stone, Ayodhaya, Ayomukhi, Arajaa, Arani, Aranya/wild/jungle, Arishta etc.)

Arishta - Arghya  (Arishtanemi, Arishtaa, Aruna, Arunaachala, Arundhati, Arka, Argha, Arghya etc.)           

Arghya - Alakshmi  (Archanaa, Arjuna, Artha, Ardhanaareeshwar, Arbuda, Aryamaa, Alakaa, Alakshmi etc.)

Alakshmi - Avara (Alakshmi, Alamkara, Alambushaa, Alarka, Avataara/incarnation, Avantikaa, Avabhritha etc.)  

Avasphurja - Ashoucha  (Avi, Avijnaata, Avidyaa, Avimukta, Aveekshita, Avyakta, Ashuunyashayana, Ashoka etc.)

Ashoucha - Ashva (Ashma/stone, Ashmaka, Ashru/tears, Ashva/horse etc.)

Ashvakraantaa - Ashvamedha (Ashwatara, Ashvattha/Pepal, Ashvatthaamaa, Ashvapati, Ashvamedha etc.)

Ashvamedha - Ashvinau  (Ashvamedha, Ashvashiraa, Ashvinau etc.)

Ashvinau - Asi  (Ashvinau, Ashtaka, Ashtakaa, Ashtami, Ashtaavakra, Asi/sword etc.)

Asi - Astra (Asi/sword, Asikni, Asita, Asura/demon, Asuuyaa, Asta/sunset, Astra/weapon etc.)

Astra - Ahoraatra  (Astra/weapon, Aha/day, Ahamkara, Ahalyaa, Ahimsaa/nonviolence, Ahirbudhnya etc.)  

Aa - Aajyapa  (Aakaasha/sky, Aakashaganga/milky way, Aakaashashayana, Aakuuti, Aagneedhra, Aangirasa, Aachaara, Aachamana, Aajya etc.) 

Aataruusha - Aaditya (Aadi, Aatma/Aatmaa/soul, Aatreya,  Aaditya/sun etc.) 

Aaditya - Aapuurana (Aaditya, Aanakadundubhi, Aananda, Aanarta, Aantra/intestine, Aapastamba etc.)

Aapah - Aayurveda (Aapah/water, Aama, Aamalaka, Aayu, Aayurveda, Aayudha/weapon etc.)

Aayurveda - Aavarta  (Aayurveda, Aaranyaka, Aarama, Aaruni, Aarogya, Aardra, Aaryaa, Aarsha, Aarshtishena, Aavarana/cover, Aavarta etc.)

Aavasathya - Aahavaneeya (Aavasathya, Aavaha, Aashaa, Aashcharya/wonder, Aashvin, Aashadha, Aasana, Aasteeka, Aahavaneeya etc.)

Aahavaneeya - Aahlaada (Aahavaneeya, Aahuka, Aahuti, Aahlaada etc. )



In order to understand word Aahuti/offering, let us start from Aahuti in Agnihotra yaga. At dusk, two aahutis of butter are given in fire which are called earlier and later one. This sequence is also repeated at dawn also. The mantras for offering are : let fire be light/jyoti and light be fire( at dusk). Let sun be light and light be sun (at dawn). The earlier aahuti is given by voice in high tone and the later aahuti is given by mind in silent tone. It has been said about voice that it can become full of sweet taste like that of Sarasvati, like that of a music which engulfs the whole body. This situation gives rise within us to a butter which when falls in fire, gives rise to a light. Hence it has been said that fire is light. Aatman has been stated to be going side by side with voice. In vedic literature, the meaning of earlier is trance or penances by an individual self, while the later means to spread the benefits of trance in the whole world. Thus, the earlier aahuti develops Aatman. Regarding later aahuti, it has been stated that praana goes along with mind. Hence, this aahuti develops the body parts of aatman – the praanas. It seems that the later aahuti does not develop butter in the body, but Stokaas which are the minute parts of Soma, which when boiled by fire, become aahuti. It has been said that the earlier aahuti is the form of fire, while the later one is of Prajaapati. It is possible that the light/jyoti born due to the later aahuti gives rise to a nectar which satisfies all the praanas. This attracts all the praanas. This is the progeny of Prajaapati which does not go away from him.

            As is evident from the aahuti mantras, aahuti involves all the three – praana/life, vaak/voice and mana/mind. Praana’s broad form is sun, that of vaak is earth and that of  manas is moon. The earth in the outer world revolves around the sun. It is absolutely true. But in spirituality, it may or may not be true. One has to make special efforts that one’s earth/body revolves around sun, some center of praana, light. The same thing can be said about revolving of moon around the earth.

     In order to understand aahuti with reference to Agnihotra, one has to understand the combination of  praana, mind and vaak/voice more deeply. According to one statement, that which is unknown is represented by praana, that which is known – by vaak, and that which is knowable – by mind. This indicates that when one offers earlier aahuti loudly by vaak, then one tries to manifest that form of praana which can be developed instantly by inner voice. Then the later aahuti which is offered silently by mind, tries to manifest that praana which can be manifested by some effort. Some other references give a trio of praana, name and roopa/form instead of praana, vaak and mind. One sacred text states that praana is undying/immortal, name and form are true. Name and form cover praana. This is a statement of a sacred text in a sacred way. One has to consider distortions of this statement in worldly life. The fact of life is that it can not sustain without food, and that too, for a short period. Therefore, praana is not immortal. Even if praana is immortal, it should not be covered by false name and form( false form may be taken to mean that our senses bring information about the world, but not in a truthful way. They may bring information of sex, anger etc. ). Name is one which can awaken the sleeping praana, just as a person gets awakened from sleep on hearing his name. One upanishada refers five stages as Asti/existence, Bhaati/appearance, Priya/appealing, naama/name and roopa/form. The first three have been stated to be of the nature of Brahman while the last two are of the nature of the world. It may be thought that here the first three may be some forms of praana.

The appearance of word jyoti/light in aahuti mantra is important. Vedic literature mentions three forms of jyoti – shabda/sound?, sparsha/touch and roopa/form. When there is a reference of such words, then one immediately catches the statement of Dr. Fatah Singh that these may the sequencial states of  coming out of trance. Hence, when the aahuti mantra says that sun is jyoti and jyoti is sun, then one can immediately suspect whether the vedic texts want to convey the context of coming out and going into trance?

            The light which develops due to aahuti, its form changes everyday. In the same way, when we consider yagas higher than Agnihotra, like Darsha – Purnamaasa, the form of aahutis changes according to phases of moon. Higher still, it changes with every letter of a meter/chhanda.

            While trying to interpret word aahuti, it has been stated that as yajamaana invokes gods by this, hence it is named as aahuti. At other place, it is said that as aahuti becomes Aatman in the other world and from there it calls that O creature, come to me, hence it is called aahuti. At another place, it has been stated that fire devours everything. Whatever is kept in it, that becomes absorbed in it(aahit), hence it is called aahuti. How does aahuti attracts gods towards it? It seems that the nectar produced by aahuti attracts gods.

            In order that aahuti is burned in fire properly, it is essential that the form of fire is properly created and the firewood is able in a proper way to help burning of fire.

            The context of aahuti was started from aahuti in Agnihotra yaga. One more method to develop the stage of aahuti has been given in context of Agnishtoma yaga. Gaayatri conceived in her womb and gave birth to Puronuvaakyaa. Puronuvaakyaa gave birth to Yaajyaa, Yaajyaa to Vashatkaara, Vashatkaara to aahuti and aahuti to Dakshina/efficiency. Thus getting efficiency is the ultimate of aahuti. Here, Vashatkaara represents a coupling of sun and 6 seasons. In actual yaga, aahuti of soma or butter etc. are given in the fire of Uttaravedi after a very loud  recitation of Vaushat. This is symbolic of rain which may satisfy the praanas. Before rain, there are other stages of rain such as flowing of air, thunder of clouds, appearing of electricity in the sky etc. These factors have been taken care of in the above mentioned Puronuvaakya etc. The conclusion is, that in worldly life, one satisfies his hunger by taking food from outside. But in spirituality, one has to satisfy his praanas with divine rain, just like frogs of vedic mythology who are always craving  for rain.

            Aahuti of milk represents the mantras of Rigveda, that of butter of Yajurveda, that of Soma of Saamas, that of Meda of Atharvaveda and that of Honey that of Itihaasa and Puraanas. Out of these, Soma aahuti is such that it is not bound. Other aahutis are bound in volume. Being not bound means that it represents a state of wide consciousness. If moon can be made the aahutis, constellations firewood and sun as fire, then this gives rise to an aahuti in the form of moon which does not decay.


टिप्पणी : आहुति का स्वरूप समझने के लिए हम दैनिक अग्निहोत्र विषयक कर्मकाण्ड से आरम्भ कर सकते हैं । सायंकाल सूर्य अस्त होने के पश्चात् अग्नि में घृत की दो आहुतियां दी जाती हैं जिन्हें पूर्वाहुति और उत्तराहुति कहते हैं । यही क्रम प्रातःकाल सूर्य उदित होने के पूर्व भी दोहराया जाता है आहुति देने के मन्त्र हैं : अग्निर्ज्योति: ज्योतिरग्निः स्वाहा ( सायंकाल ) सूर्यो ज्योति: ज्योति: सूर्य: स्वाहा ( प्रातःकाल ) वाक् द्वारा उच्च स्वर से पूर्वाहुति दी जाती है और मन द्वारा तूष्णीं रूप में उत्तर आहुति दी जाती है ( जैमिनीय ब्राह्मण .१६) वाक् के बारे में कहा जाता है कि वाक् सरस्वती रस वाली बन सकती है, ऐसी जैसे दुन्दुभि की वाक् , सारा शरीर दुन्दुभि की भांति संगीत से ओतप्रोत हो जाए इस स्थिति में हमारे अन्दर एक घृत का जन्म होता है जो शरीर की अग्नि में जल कर ज्योति उत्पन्न करता है इस अवस्था का नाम आहुति है इसीलिए आहुति मन्त्र में कहा गया है कि अग्निर्ज्योति: यह पूर्वाहुति है जैमिनीय ब्राह्मण .१६ के अनुसार वाक् के अनुदिश आत्मा होती है वैदिक साहित्य में पूर्व और उत्तर का अर्थ क्रमशः एकाङ्गी साधना या समाधि और सर्वाङ्गीण साधना होता है ( अथर्ववेद ..) निहितार्थ यह है कि पूर्वाहुति से आत्मा का विकास होता है इसके पश्चात् मन द्वारा उत्तराहुति के संदर्भ में, मन के अनुदिश प्राण हैं । अतः उत्तराहुति से प्राणों का, आत्मा के अङ्गों का विकास होता है ऐसा प्रतीत होता है कि उत्तराहुति के रूप में शरीर के अन्दर घृत का नहीं, अपितु स्तोकों का, सोम के सूक्ष्मरूप का प्राकट्य होता है ( शतपथ ब्राह्मण ...२२, ..., तैत्तिरीय ब्राह्मण ...) जो अग्नि द्वारा पक कर आहुति बनते हैं । कहा गया है ( तैत्तिरीय ब्राह्मण ...) कि जो पूर्वाहुति है, यह अग्निहोत्र का स्थाणु ( ज्योति पुञ्ज? ) है उत्तराहुति देते समय इस बात का ध्यान रखना होगा कि उसके कारण इस स्थाणु को क्षति पहुंचे पूर्वाहुति अग्नि का रूप है, उत्तराहुति प्रजापति का ( तैत्तिरीय ब्राह्मण ...) अग्नि में उत्तर आहुति के पश्चात् ज्योति के कारण संभवतः रस की वर्षा होती है, यह प्राणों को तृप्त करती है जिससे सारे प्राण इसकी ओर खिंचे चले आते हैं । यही प्रजापति की प्रजा हैं ( तैत्तिरीय संहिता ...)

          जैसा कि आहुति के मन्त्रों से स्पष्ट है, आहुति में प्राण, मन और वाक् तीनों का समावेश कर दिया गया है प्राण का बृहद् रूप सूर्य है, वाक् का पृथिवी और मन का चन्द्रमा जिस प्रकार भौतिक जगत में पृथिवी सूर्य की परिक्रमा करती है और चन्द्रमा पृथिवी की परिक्रमा करता है, यही स्थिति अध्यात्म में भी सोची जा सकती है अन्तर इतना ही है कि भौतिक जगत में तो पृथिवी सूर्य की परिक्रमा करती ही है, उसमें सत्य या असत्य जैसी कोई बात नहीं है, लेकिन अध्यात्म में ऐसा आवश्यक नहीं है कि वाक् रूपी पृथिवी प्राण रूपी सूर्य की परिक्रमा करती ही हो परिक्रमा कराने के लिए विशेष प्रयास की साधना की आवश्यकता होगी यही स्थिति मन रूपी चन्द्रमा द्वारा पृथिवी रूपी वाक् की परिक्रमा के बारे में भी कही जा सकती है

          अग्निहोत्र के संदर्भ में आहुति को समझने के लिए प्राण, मन और वाक् को और अधिक गंभीर रूप में समझा जा सकता है बृहदारण्यक उपनिषद ..८ का कथन है कि अविज्ञात प्राण का रूप है, विज्ञात वाक् का, और विजिज्ञास्य मन का । अच्छी तरह समझने के लिए वाक् को अंग्रvजी की वायस भी कह सकते हैं, अन्तरात्मा की आवाज यह सबसे अधिक स्पष्ट होनी चाहिए इसका अर्थ यह हुआ कि वाक् द्वारा उच्च स्वर से जो पूर्वाहुति दी जाती है, उससे प्राणों का वह रूप प्रकट करने का प्रयास किया जाता है जो अन्तरात्मा की विकसित वाक् द्वारा प्रकट किया जा सकता है फिर मन द्वारा जो विजिज्ञास्य है, जिसे प्रयास द्वारा प्रकट करने योग्य बनाया जा सकता है, उसे प्रकट करने का प्रयास किया जाता है कुछ अन्य संदर्भों में प्राण, वाक् मन के त्रिक् के बदले प्राण, नाम रूप का उल्लेख आया है शतपथ ब्राह्मण १४...३ का कथन है कि प्राण अमृत हैं, नाम रूप सत्य हैं । नाम रूप द्वारा प्राण आच्छादित है यह पवित्र ग्रन्थ का कथन मात्र है इसकी विकृतियों के बारे में भी सोचना होगा सामान्य स्थिति तो यही होनी चाहिए कि प्राण मृत हैं तथा नाम रूप असत्य हैं । यदि प्राण अमृत भी हों , तब भी यह असत्य नाम रूप द्वारा आच्छादित रहेंगे तो अनुचित होगा ( नाम के बारे में कहा गया है कि नाम वह है जो सोते हुए प्राणों को जगा दे ) सरस्वती रहस्योपनिषद .२३ में संभवतः समाधि से व्युत्थान की अवस्था में अंशपञ्चकों अस्ति, भाति, प्रिय, नाम रूप का उल्लेख आया है जिनमें प्रथम तीन ब्रह्म रूप हैं और अन्तिम जगत रूप यह कहा जा सकता है कि अस्ति, भाति प्रिय प्राणों के तीन अंश होंगे

          आहुति मन्त्रों में ज्योति शब्द का प्रकट होना महत्त्वपूर्ण है वैदिक साहित्य में ज्योति के तीन अंशों का उल्लेख आया है - शब्द, स्पर्श रूप जब शब्द, स्पर्श, रूप, रस गन्ध की बात आती है तो डा. फतहसिंह का यह विचार महत्त्वपूर्ण हो जाता है कि यह समाधि से व्युत्थान की क्रमिक अवस्थाएं हैं । अतः आहुति मन्त्र में जब कहा जाता है कि सूर्यो ज्योति: तो यह विचारणीय है कि क्या यह समाधि में प्रस्थान और समाधि से व्युत्थान का प्रसंग है? आहुति से जो ज्योति प्रकट होती है, उस ज्योति का स्वरूप प्रतिदिन अलग - अलग होता है इसी प्रकार अग्निहोत्र से आगे प्रत्येक मास में ज्योति का स्वरूप बदलता है जब दर्श - पूर्णमास आदि यज्ञों में जाते हैं तो वहां आहुतियों का स्वरूप चन्द्रमा की कलाओं के अनुसार बदलता है यहां तक कि छन्दों के प्रत्येक अक्षर के साथ आहुति का स्वरूप बदलता है ( जैमिनीय ब्राह्मण .२६)

          आहुति शब्द की निरुक्ति करते हुए ऐतरेय ब्राह्मण . में कहा गया है कि चूंकि इससे यजमान देवों को आहूत अथवा आह्वान करता है, अतः इसका नाम आहुति है शतपथ ब्राह्मण ११... के अनुसार चूंकि आहुति अन्य लोक में जाकर आत्मा बनती है और वहां से आह्वान करती है कि हे जीव, यहां मेरे पास आओ, अतः उसका नाम आहुति है शतपथ ब्राह्मण १०... के अनुसार अग्नि भक्षक है उसमें जो कुछ रखा जाता है, वह आहित हो जाता है, अतः उसका नाम आहुति है प्रथम निरुक्ति के संदर्भ में, आहुति देवों का आह्वान किस प्रकार करती है ? इसका उत्तर ब्राह्मण ग्रन्थों में कईं प्रकार से दिया गया है यज्ञ में अग्नि के मुख्य  दो रूप होते हैं - गार्हपत्य अग्नि जो पृथिवी पर स्थित है और आहवनीय अग्नि जो द्युलोक में स्थित रहती है यहां आदित्य स्थित है ( सायंकाल होने पर आदित्य आहवनीय अग्नि में लीन हो जाता है ) लक्ष्य यह है कि गार्हपत्य, आहवनीय और आदित्य के स्तरों में तादात्म्य स्थापित हो जाए दूसरे शब्दों में, प्राण उदान बन जाए, उदान प्राण बन जाए और व्या उदान बन जाए ( शतपथ ब्राह्मण ११...) यह कार्य आहुति के द्वारा सम्पन्न हो सकता है आहुतियों से उत्पन्न रस अथवा अन्न की ओर संभवतः देवगण आकर्षित होते हैं ( शतपथ ब्राह्मण १०...१९) आहुति के सम्यक प्रकार से ज्वलन के लिए यह आवश्यक है कि अग्नि का स्वरूप सम्यक् प्रकार से संचित किया गया हो तथा समिधा ( यज्ञ काष्ठ ) अग्नि का सम्यक् प्रकार से समिन्धन करने में समर्थ हो आहवनीय अग्नि, समिधा तथा आहुतियों आदि के रूप भिन्न - भिन्न हो सकते हैं जिसके लिए शतपथ ब्राह्मण ११..., बृहदारण्यक उपनिषद .. तथा जैमिनीय ब्राह्मण .४५ द्रष्टव्य हैं ।

          आहुति स्तर को उत्पन्न करने की एक और विधि का वर्णन ब्राह्मण ग्रन्थों में आता है जैमिनीय ब्राह्मण .२५० के अनुसार गायत्री ने गर्भ धारण किया और पुरोनुवाक्या को जन्म दिया उससे याज्या का, उससे वषट्कार का, वषट्कार से आहुति का और आहुति से दक्षिणा का जन्म हुआ इसी तथ्य को तैत्तिरीय ब्राह्मण ... तथा शतपथ ब्राह्मण १२...३० में भी कुछ अन्तर से कहा गया है   आहुति का प्रकरण अग्निहोत्र की आहुतियों से आरम्भ किया गया था यह प्रकरण अग्निष्टोम यज्ञ की आहुतियों का है जहां वषट्कार द्वारा उत्तरवेदी की अग्नि में सोम आदि की आहुतियां दी जाती हैं । वषट्कार के बारे में कहा गया है कि असौ/सूर्य वौ है तथा ऋतुएं षट् हैं । इन दोनों का संयोग वषट्कार को और वषट्कार वर्षा को जन्म देता है इस प्रकरण में जिन पुरोवाक्या, याज्या आदि के उल्लेख आए हैं, वह वर्षा होने से पूर्व की अवस्थाएं हैं - जैसे पुरोवात का बहना, मेघों का गर्जन, विद्युत का चमकना आदि निष्कर्ष यह है कि अध्यात्म में जीव को अपने प्राणों की तृप्ति बाहर के भोजन से करने का निषेध है उसे मण्डo की भांति वर्षा की अभीप्सा करनी पडेगी जिससे उसके प्राणों को तृप्ति मिल सके इसे आहुति कहा गया है

           शतपथ ब्राह्मण ११... के अनुसार पयः की आहुति ऋग्वेद की ऋचाओं का, आज्य आहुति यजुर्वेद की यजुओं का, सोमाहुति सामों का, मेदाहुति अथर्ववेद का तथा मधु आहुति इतिहास - पुराण आदि का प्रतिनिधित्व करती हैं । इसमें सोमाहुति ऐसी है जिसका विशेष महत्त्व है अन्य आहुतियां आयतन में बद्ध हैं, लेकिन सोमाहुति आयतन से रहित है ( तैत्तिरीय संहिता ...) यह विस्तीर्ण चेतना की, प्रजापति की अवस्था है ( शतपथ ब्राह्मण १२...) शतपथ ब्राह्मण १०...१७ के अनुसार यदि चन्द्रमा आहुतियां बन जाए, नक्षत्र समिधा हो जाएं और आदित्य अग्नि हो जाए तो चन्द्रमा और नक्षत्रों के संयोग से चन्द्रमा रूपी आहुति की प्रतिष्ठा हो जाती है, उसका क्षय नहीं होता

          पूर्णाहुति होम का वर्णन शतपथ ब्राह्मण ...४४ तथा १३...१०  में उपलब्ध है