Site hosted by Angelfire.com: Build your free website today!

पुराण विषय अनुक्रमणिका

PURAANIC SUBJECT INDEX

(Anapatya to aahlaada only)

by

Radha Gupta, Suman Agarwal, Vipin Kumar

Home Page

Anapatya - Antahpraak (Anamitra, Anaranya, Anala, Anasuuyaa, Anirudhdha, Anil, Anu, Anumati, Anuvinda, Anuhraada etc.)

Anta - Aparnaa ((Antariksha, Antardhaana, Antarvedi, Andhaka, Andhakaara, Anna, Annapoornaa, Anvaahaaryapachana, Aparaajitaa, Aparnaa  etc.)

Apashakuna - Abhaya  (Apashakuna, Apaana, apaamaarga, Apuupa, Apsaraa, Abhaya etc.)

Abhayaa - Amaavaasyaa (Abhayaa, Abhichaara, Abhijit, Abhimanyu, Abhimaana, Abhisheka, Amara, Amarakantaka, Amaavasu, Amaavaasyaa etc.)

Amita - Ambu (Amitaabha, Amitrajit, Amrita, Amritaa, Ambara, Ambareesha,  Ambashtha, Ambaa, Ambaalikaa, Ambikaa, Ambu etc.)

Ambha - Arishta ( Word like Ayana, Ayas/stone, Ayodhaya, Ayomukhi, Arajaa, Arani, Aranya/wild/jungle, Arishta etc.)

Arishta - Arghya  (Arishtanemi, Arishtaa, Aruna, Arunaachala, Arundhati, Arka, Argha, Arghya etc.)           

Arghya - Alakshmi  (Archanaa, Arjuna, Artha, Ardhanaareeshwar, Arbuda, Aryamaa, Alakaa, Alakshmi etc.)

Alakshmi - Avara (Alakshmi, Alamkara, Alambushaa, Alarka, Avataara/incarnation, Avantikaa, Avabhritha etc.)  

Avasphurja - Ashoucha  (Avi, Avijnaata, Avidyaa, Avimukta, Aveekshita, Avyakta, Ashuunyashayana, Ashoka etc.)

Ashoucha - Ashva (Ashma/stone, Ashmaka, Ashru/tears, Ashva/horse etc.)

Ashvakraantaa - Ashvamedha (Ashwatara, Ashvattha/Pepal, Ashvatthaamaa, Ashvapati, Ashvamedha etc.)

Ashvamedha - Ashvinau  (Ashvamedha, Ashvashiraa, Ashvinau etc.)

Ashvinau - Asi  (Ashvinau, Ashtaka, Ashtakaa, Ashtami, Ashtaavakra, Asi/sword etc.)

Asi - Astra (Asi/sword, Asikni, Asita, Asura/demon, Asuuyaa, Asta/sunset, Astra/weapon etc.)

Astra - Ahoraatra  (Astra/weapon, Aha/day, Ahamkara, Ahalyaa, Ahimsaa/nonviolence, Ahirbudhnya etc.)  

Aa - Aajyapa  (Aakaasha/sky, Aakashaganga/milky way, Aakaashashayana, Aakuuti, Aagneedhra, Aangirasa, Aachaara, Aachamana, Aajya etc.) 

Aataruusha - Aaditya (Aadi, Aatma/Aatmaa/soul, Aatreya,  Aaditya/sun etc.) 

Aaditya - Aapuurana (Aaditya, Aanakadundubhi, Aananda, Aanarta, Aantra/intestine, Aapastamba etc.)

Aapah - Aayurveda (Aapah/water, Aama, Aamalaka, Aayu, Aayurveda, Aayudha/weapon etc.)

Aayurveda - Aavarta  (Aayurveda, Aaranyaka, Aarama, Aaruni, Aarogya, Aardra, Aaryaa, Aarsha, Aarshtishena, Aavarana/cover, Aavarta etc.)

Aavasathya - Aahavaneeya (Aavasathya, Aavaha, Aashaa, Aashcharya/wonder, Aashvin, Aashadha, Aasana, Aasteeka, Aahavaneeya etc.)

Aahavaneeya - Aahlaada (Aahavaneeya, Aahuka, Aahuti, Aahlaada etc. )

 

 

Right from the beginning of Somayaga, when preparation for Pravargya is being done,  there is an innate desire that let us somehow defeat the demons. Demons are able to conquer gods because they have created 3 abodes for themselves which are of iron, silver and gold types. The beginning of somayaga is done in Praagvamsha or the earlier vedi. There a prayer is made that let fire create these 3 abodes for itself. This prayer fructifies in the form of  later or Uttaravedi where 3 abodes of gods actually exist. Out of these, the iron abode is the Sadomandapa as shown in the figure. The silver abode is the Aagneedhra mandapa and the golden abode is the Havirdhaana mandapa. The situation of Aagneedhra mandapa is at the boundary of  Antarvedi and Bahirvedi, or the inner space and outer space. The inner space is connected with gods while the outer space is connected with humans. As the Aagneedhra priest slips gradually into inner space, he heads towards gods.

          Aagneedhra mandapa has been universally stated to be situated in sky, in between heaven and earth. Sky or Antariksa word in Sanskrit means to see inside oneself, to become introvert. The word meaning of Aagnidha is to kindle the fire. In somayaga, when the fire is produced by churning of  woods, then it is the fire of Aagneedhra which is kindled first. Then the fire of Aagneedhra is used to kindle other small fires in Sadomandapa. One can say that these small fire are the sons of Aagneedhra because he is supposed to produce these from his semen, power and in this act, the sadomandapa becomes his wife.

          In Uttaravedi, 8 fires are designated double names. Out of these, one name belongs to that form which is in the heaven, while the other name is for that form which is on the earth. It has been stated that these fires are those which had failed to protect Soma from being stolen by a hawk. Therfore, due to curse, they had to come on earth. These fires get butter for their food, and not the soma. The eighth of these, the Aagneedhra fire is said to be of non-decaying nature. Some people think that the Dakshinaagni/anvaahaaryapachana fire in the primary stage has developed in Aagneedhra fire in the later stage.

 

आग्नीध्र

टिप्पणी : ब्राह्मण ग्रन्थों में सार्वत्रिक रूप से वर्णन आता है कि देवगण असुरों से हार रहे थे । उन्होंने हारने के कारण का पता लगाया तो पता चला कि असुरों ने अपने लिए अयस्मय, रजतमय और हिरण्मय पुरों का निर्माण कर लिया है, अतः वह जीत रहे हैं । तब देवों ने अपने लिए पृथिवी पर सद:/यज्ञवेदी को, अन्तरिक्ष में आग्नीध्र को और द्युलोक में हविर्धान को अपना पुर बनाया ( गोपथ ब्राह्मण २.२.७ इत्यादि ) । तब वह जीते । इसी आख्यान का दूसरा रूप इस प्रकार है कि दक्षिण दिशा में देवगण असुरों से हार गए । असुरों ने उन्हें यज्ञ से निकाल दिया । तब देवगण उत्तर दिशा में आग्नीध्र पर पत्नियों सहित आकर बैठे । तब वह जीत गए (मैत्रायणी संहिता ३.८.१०) । यज्ञ स्थल पर आग्नीध्र ऋत्विज का स्थान बहिर्वेदी और अन्तर्वेदी के बीच में होता है । अन्तर्वेदी मनुष्य का स्व लोक है । इससे देव लोक पर जय होती है । बहिर्वेदी मनुष्य लोक है । आग्नीध्र ऋत्विज ज्यों - ज्यों बहिर्वेदी से अन्तर्वेदी की ओर सर्पण करता है, वह देवों का, विश्वेदेवों का स्थान बनता जाता है ( शतपथ ब्राह्मण ४.३.४.११) ।

          आग्नीध्र की प्रकृति को समझाने के लिए ब्राह्मण ग्रन्थों में आग्नीध्र को सार्वत्रिक रूप से अन्तरिक्ष में स्थित कहा गया है । अन्तरिक्ष अर्थात् अन्त: ईक्षते , अपने अन्दर झांक कर देखना । अन्तरिक्ष रूपी आत्मा के एक ओर देवलोक है, दूसरी ओर पृथिवी । यज्ञ स्थल पर हविर्धान को देवलोक मानते हैं और सद:/वेदी को पृथिवी लोक । एक ओर आहवनीय अग्नि है तो दूसरी ओर गार्हपत्य अग्नि । बीच में आत्मा है । इस आत्मा में प्राणों का, अग्नि का संचार करना है ( शतपथ ब्राह्मण ७.१.२.१४) । आग्नीध्र का अर्थ होता है - अग्निम् इन्धते अर्थात् अग्नि का दीपन करना । वैदिक भाषा में इन प्राणों को अतिरिक्त ऊर्जा, घर्म, व्यान आदि नाम दिए गए हैं ( शतपथ ब्राह्मण १४.३.१६, ७.१.२.२१) । यह प्राण ९ हैं । इनके बीच दसवां स्वयं आग्नीध्र है ( तुलना : भागवत पुराण ५.२.१९ में आग्नीध्र के नाभिवर्ष, हरिवर्ष, किम्पुरुष वर्ष, इलावृत्त वर्ष आदि ९ पुत्र ) । यज्ञ में इन ९ प्राणों का प्रतीक ८ धिष्ण्य अग्नियां एवं ९वीं अश्मा पृश्नि होती है ( शतपथ ब्राह्मण ९.४.३.६) । कर्मकाण्ड में मन्थन द्वारा अग्नि को उत्पन्न करके सर्वप्रथम आग्नीध्र की अग्नि को प्रज्वलित किया जाता है । आग्नीध्र की अग्नि से धिष्ण्य अग्नियों को प्रज्वलित किया जाता है । यह प्राण रूपी अग्नियां आग्नीध्र किस प्रकार उत्पन्न करता है ? ब्राह्मण ग्रन्थों के अनुसार आग्नीध्र सद:/वेदी को पत्नी रूप में मानकर उसमें अपने हिरण्य रूपी रेतस् का सिंचन करता है । पुराणों में यही तथ्य आग्नीध्र राजा द्वारा  पूर्वचित्ति अप्सरा से पुत्र उत्पन्न करने के रूप में कहा गया है । आग्नीध्र ही पूर्वचित्ति अप्सरा के शरीर की शोभा को निहारने में समर्थ होता है ( मैत्रायणी संहिता में सद: को अपान व जगती का रूप, हविर्धान को प्राण व गायत्री का रूप और आग्नीध्र को व्यान व त्रिष्टुप् छन्द का रूप कहा गया है )।

          ऐसी कौन सी विशेषता है जिससे आग्नीध्र असुरों से पराजित नहीं होता ? गोपथ ब्राह्मण १.१.२३ से संकेत मिलता है कि आग्नीध्र के पास ओंकार का बल है, वह सारी पृथिवी को ओंकार की कलाओं से अभिभूत कर देना चाहता है । तैत्तिरीय ब्राह्मण ३.१२.९५ के अनुसार स्वयं श्रद्धा ही आग्नीध्र बन जाती है ।

          शुक्ल यजुर्वेद ५.३१ में विभुरसि प्रवाहणो इत्यादि मन्त्र आए हैं । ब्रह्माण्ड पुराण १.२.१२.२७ तथा वायु पुराण २९.२६ आदि में कहा गया है कि विभु प्रवाह अग्नि से तात्पर्य आग्नीध्र की अग्नि से है । शुक्ल यजुर्वेद में विभु प्रवाहण से आगे अन्य धिष्ण्यअग्नियों के नाम हैं । कहा गया है कि ८ धिष्ण्य अग्नियां द्विनामा हैं जिसका कारण शतपथ ब्राह्मण ३.६.२.१७ में यह दिया गया है कि जब गायत्री श्येन का रूप धारण कर स्वर्ग से सोम का हरण करने गई थी, तो यह धिष्ण्य अग्नियां सोमरक्षक गन्धर्व थे । सोम की रक्षा करने में विफल रहने के कारण इनको भूमि पर अवतरित होना पडा । इनका एक रूप स्वर्ग में ही है और दूसरे रूप से यह भूमि पर विराजमान हैं । भूमि वाला रूप मर्त्य है, स्वर्ग वाला अमर्त्य । अतः यह द्विनामा हैं । केवल विभु प्रवाहण अग्नि ही ऐसा है जो अमर्त्य है । इन धिष्ण्य अग्नियों के लिए घृत की आहुति का विधान है और आग्नीध्र की अग्नि के सिवाय अन्य अग्नियों को केवल अवसर विशेष पर ही आग्नीध्र की अग्नि से प्रज्वलित किया जाता है । अन्यथा यह शान्त अवस्था में रहती हैं ।

          मैसूर से आचार्य श्री वासुदेव परांजपे जी का विचार है कि प्राग्वंश में जो दक्षिणाग्नि है, वह उत्तरवेदी में आकर आग्नीध्र की अग्नि के रूप में विकसित हुई है । दक्षिणाग्नि के लिए अन्वाहार्यपचन शब्द पर टिप्पणी द्रष्टव्य है ।